26 January Shayari – दोस्तों आज हम आपको 26 जनवरी ( स्वतंत्रता दिवस ) के पर्व पर अपने दोस्तों, परिवार, शिक्षक, आदि को मोबाइल पर शेयर करने के लिए और उनको देश के वीरों के बलिदान को याद दिलाने के लिए कुछ स्पेशल 26 January Shayari पढ़ाने जा रहे जो आपको बहुत ज्यादा पसंद आएगी।

यह 26 January Shayari आपको आपके वो स्वतंत्रता के दिन याद दिलाएगी जब आपके अपने सभी भाई – बहन आपके अपने देश के क्रांतिकारी नेता और हमारे सब के प्रिय इस देश वो सभी वीर पुत्र जो आज हमारे बीच नहीं लेकिन उन्होंने इस स्वतंत्रता संग्राम मे हिस्सा लेकर कर अपने प्राणों को इस वीर भूमि की आजादी के लिए दान दे दिया।

अगर हम इस आजादी के क्रातिकारी के नाम आपको गिनाने लग जाए तो आपका पूरा समय 26 January Shayari मे नहीं बल्कि क्रांतिकारियों के नाम पढ़ने मे लग जाएगा लेकिन हम आपको उनके नाम नहीं बताएंगे बस हम आपको इस 26 January Shayari को पढ़ने और अपने वीरों को याद करने के लिए कहेंगे क्योंकि जिन वीरों ने हमारी आजादी के लिए अपनी जान दी थी उनको सम्मान देना हमारा कर्तव्यय है।

तो आइए इन सभी 26 January Shayari को पहले तो खुद पढे और फिर अपने साथ के लोगों को भी शेयर करे ताकि वो भी इन 26 January Ki Shayari की मदद से अपने वीरों को याद कर सके।

 

26 January Shayari

अब आइए आपको हम यह 26 January Shayari पढ़ाने जा रहे जो आपको आपके वीरों की याद दिलाएगी और फिर आप इन 26 January Shayari से अपने दोस्तों और साथ के लोगों को भी शेयर करके बधाई दे सकते हो तो आइए सुरू करिए पढ़ना।

 

गूँज रहा है दुनिया में भारत का नगाडा,
चमक रहा आसमान में देश का सितारा,
आज़ादी के दिन आओ मिलके करें दुआ,
की बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा हमारा.,

 

मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए,
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए,
जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए,
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये.,

 

चलो फिर से आज वोह नजारा याद करले,
शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद करले,
जिसमे बहकर आज़ादी पहुची थी किनारे पे,
देशभक्तों के खून की वो धारा याद करले.,

 

सुन्दर हैं जग में सबसे नाम भी न्यारा है,
जहा जाति-भाषा से बढ़ कर देश-प्रेम की धारा हैं,
निश्छल, पवन, प्रेम पूर्ण औऱ विशाल हृदय वाला है,
वो भारत देश हमारा है, वो भारत देश हमारा है.,

 

मैं भारत वर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ,
यहाँ कि चाँदनी मिट्टी का गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नही है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा बस यही अरमान रखता हूँ.,

 

26 january Shayari

 

खुशनसीब होते हैं वो लोग,
जो देश पर कुर्बान होते हैं,
जान देके भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करते हैं सलाम उन देश के शहीदों को,
जिनके कारन इस तिरंगे का मान होता है.,

 

ये नफरत बुरी है ना पालो इसे,
दिलो मैं गन्दगी है निकालो इसे,
ना तेरा ना मेरा ना इसका ना उसका,
ये सब का वतन है, बचालो इसे.,

 

सलामी दे  इस तिरंगे को,
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा इसका ऊँचा रखना,
जब तक दिल में जान हैं.,

 

भारतीय होने पर कीजिए गर्व,
मिलकर मनाएं लोकतंत्र का पर्व,
देश के दुश्मनों को मिलकर मिटाओ,
हर घर पर तिरंगा लहराओ.,

 

ये नफरत बुरी है ना पालो इसे,
दिलों में नफरत है निकालो इसे,
ना तेरा, ना मेरा, ना इसका, ना उसका,
ये सब का वतन है बचालो इसे.,

 

इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना,
रौशनी भी होगी चिरागों को जलाये रखना,
लहू देकर की है जिस देश की हिफाजत हमने,
ऐसे तिरंगे को सदा अपने दिल में बसाये रखना.,

 

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे,
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे,
बची है जो एक बूंद लहू की तब तक,
भारत माता का आंचल नीलाम नहीं होने देंगे.,

 

अलग है भाषा, धर्म जात और प्रान्त, भेष, परिवेश,
पर हम सब का एक है गौरव राष्ट्रध्वज तिरंगा,
श्रेष्ठ गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.,

 

26 january Shayari

 

इस दिन के लिए वीरो ने अपना खून बहाया है,
झूम उठो देशवासियो गणतंत्र दिवस फिर आया है,
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये.,

 

शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो,
होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो.,

 

चलो फिर से खुद को जगाते हैं,
अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं,
याद करें उन शूरवीरों को क़ुरबानी,
जिनके कारण हम इस लोकतंत्र का आनंद उठाते हैं .,

 

इस दिन के लिए वीरो ने अपना खून बहाया है,
झूम उठो देशवासियों गणतंत्र दिवस फिर आया है.,

 

खुशनसीब है वो जो वतन पर मिट जाते है,

मर कर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,

करता हूं उन्हें सलाम ए वतन पर मिटने वालों,

तुम्हारी हर सांस में बसता तिरंगे का नसीब है.,

 

तैरना है तो समंदर में तैरो,

नदी नालों में क्या रखा है,

प्यार करना है तो वतन से करो,

इस बेवफा लोगों में क्या रखा है.,

 

आज शहीदों ने है तुमको, अहले वतन ललकारा,

तोड़ो गुलामी की जंजीरें, बरसाओ अंगारा,

हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा, भाई-भाई प्यारा,

यह है आजादी का झंडा, इसे सलाम हमारा.,

 

जमाने भर में मिलते है आशिक कई,

जमाने भर में मिलते है आशिक कई,

मगर वतन से खुबसूरत कोई सनम नही होता.,

 

26 january Shayari

 

भलाई ये कि आज़ादी से उल्फ़त तुम भी रखते हो,

बुराई ये कि आज़ादी से उल्फ़त हम भी रखते हैं.,

 

वतन की ख़ाक ज़रा एड़ियाँ रगड़ने दे,

मुझे यक़ीन है पानी यहीं से निकलेगा.,

 

हम शहीदों को कभी मुर्दा नहीं कहते अनीस,

रिज़्क़ जन्नत में मिले शान यहाँ पर बाक़ी.,

 

 देश भक्तों के बलिदान से, स्वतंत्र हुए है हम,
कोई पूछे कौन हो, तो गर्व से कहेंगे. भारतीय है हम.,

 

चलो फिर से खुद को जागते है, अनुशासन का डंडा फिर घुमाते है,
सुनहरा रंग है, गणतंत्र का सहिदो के लहू से,
ऐसे सहिदो को हम सब सर झुकाते है.,

 

मैं मुसलिम हूँ, तू हिंदू है, हैं दोनों इंसान,
ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान,
अपने तो दिल में है, दोस्त बस एक ही अरमान,
एक थाली में खाना खाए सारा हिन्दुस्तानी.,

 

जमाने भर में मिलते है, आशिक कई,
जमाने भर में मिलते है, आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता.,

 

कुछ नशा तिरंगे की आन का,
कुछ नशा मातृभूमि की शान का,
हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा,
है ये नशा हिंदुस्तान की शान का.,

 

26 january Shayari

 

तैरना है तो समुंदर में तैरो,
नदी नालों में क्या रखा है,
प्यार करना है तो वतन से करो,
इन बेवफा लोगों में क्या रखा है.,

 

जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई,
जमाने भर में मिलते हैं आशिक कई,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता.,

 

मेरे जज़्बातों से इस कदर वाकिफ है,
मेरी कलम मैं इश्क भी लिखना चाहूँ,
तो भी, इंकलाब लिख जाता है.,

 

राष्ट्र के लिए मान – सम्मान रहे,
हर एक दिल में हिन्दुस्तान रहे,
देश के लिए एक – दो तारीख नही,
भारत माँ के लिए ही हर सांस रहे.,

 

चलो फिर से खुद को जगाते है,
अनुसासन का डंडा फिर घुमाते है,
सुनहरा रंग है गणतंत्र का शहीदों के लहू से,
ऐसे शहीदों को हम सब सर झुकाते है.,

 

आओ झुक कर सलाम करे उनको,
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है,
खुशनसीब होता है वो खून जो,
देश के काम आता है.,

 

मैं तो सोया था गहरी नींद मैं,
सरहद पर था जवान जगा रात सारी,
ये सोच कर नींद मेरी उड़ गयी,
जवान कर रहा रक्षा हमारी.,

 

बलिदानों का सपना सच हुआ,
देश तभी आजाद हुआ,
आज सलाम करें उन वीरों को,
जिनकी शहादत से ये गणतन्त्र हुआ.,

 

26 january Shayari

 

देशभक्तों से ही देश की शान है,
देशभक्तों से ही देश का मान है,
हम उस देश के फूल हैं यारों,
जिस देश का नाम हिंदुस्तान है.,

 

वतन हमारा मिसाल मोहब्बत की,
तोड़ता है दीवार नफरत की,
खुशनसीबी हमारी जो मिली जिंदगी इस चमन में,
भुला न सकेंगे इसकी खुशबु सातों जन्म में.,

 

इंडियन होने पर करीए गर्व,
मिलके मनाएं लोकतंत्र का पर्व,
देश के दुश्मनों को मिलके हराओ,
हर घर पर तिरंगा लहराओ.,

 

हरा, सफेद और केसरिया,
हमारे तिरंगे का रंग है,
आज गणतंत्र दिवस के दिन,
उत्सव हर देशप्रेमी के संग है.,

 

शुक्रिया मेरे वतन के रखवालों,
शुक्रिया मेरे देश को आजाद कराने वालों,
कैसे शुक्रिया करूं,
बता हमें आजादी का तोहफा देने वालों.,

 

ये दिन नहीं सिर्फ लड्डू खाने का
ये दिन नहीं सिर्फ देश भक्ति गीत गाने का
भारत मां की रक्षा करने वाले को याद करो
ये दिन है उन वीरों को याद करने का

 

लिख के कहानी कुर्बानी की,
एक दिन कुर्बान हो जाऊंगा,
देख लेना यारों एक दिन मैं भी,
वीर शहीदों में गिना जाऊंगा.,

 

अगर हमारा संविधान ना होता,
तो दुनिया में हमारा कहीं नाम ना होता,
स्वतंत्र होकर भी हम पूरे स्वतंत्र ना होते,
भारत सबसे बड़ा लोकतंत्र ना होता.,

 

 

 

चलता अगर जोर मेरा,
नतमस्तक होकर झुक जाता,
जहां जहां पर देखता तिरंगा,
मैं वहीं कुछ देर रुक जाता,
देकर सलामी झंडे को,
इसकी शान बढ़ा जाता.,

 

जंग मुश्किल थी पर उन्होंने हार ना मानी,
दुश्मनों को याद दिलाई उनकी नानी,
आज पूरी दुनिया पलके बिछाए सुनती है,
हमारे साहसी वीर योद्धाओं की कहानी.,

 

रिश्ता मेरे वतन से कोई तोड़ सकता नहीं,
मेरा दिल देशप्रेम छोड़ सकता नहीं,
अपनी मातृभूमि की जिम्मेदारी से,
मैं कभी मुख मोड़ सकता नहीं.,

 

वह जो देश की रक्षा के लिए,
सरहद पर खड़े जवान है,
मेरे दिल में उन सब के लिए,
प्रेम भरा, ढेर सारा सम्मान है.,

 

मैं भारत वर्ष का हरदम सम्मान करता हूं,

यहां की चांदनी मिट्टी का गुणगान करता हूं,

 मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की तिरंगा हो,

कफ़न मेरा बस यही अरमान करता हू.,

 

सीमा पर लोग मरते हैं,

वो खुशनसीब अमर हो जाते हैं,

मेरी बदकिस्मती हैं ये,

हम आम जिन्दगी जिए चले जाते हैं.,

 

देशभक्तों के बलिदान से,

स्वतन्त्र हुए हैं हम,

कोई पूछे कौन हो तो,

गर्व से कहेंगे भारतीय हैं हम.,

 

भारतीय सैनिक कहते हैं,

इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना,

रौशनी होगी, चिरागों को जलाये रखना,

लहू देकर जिसकी हिफ़ाज़द की हमने,

उस तिरंगे को आँखों में बसाये रखना.,

 

 

वीरों के बलिदान की कहानी हैं ये,

माँ के कुर्बान लालो की निशानी हैं ये,

यूँ लड़ लड़ कर इसे तबाह ना करना,

देश हैं कीमती उसे धर्म के नाम पर नीलाम ना करना.,

 

मोहब्बत का दूसरा नाम हैं मेरा देश,
अनेको में एकता का प्रतीक हैं मेरा देश,
चाँद गेरो की सुनना मुझे गवारा नही,
हिंदी हो या मुस्लिम सभी का प्यारा हैं मेरा देश.,

 

मेरा तन, मन और धन इस देश के काम आयें,
आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.,

 

जब गिरे धरा पर,कर्तव्य निभाकर,
भारत के खातिर सब लहू बहाकर,
जब अमर तिरंगा ओढ़े लौटे अपने घर,
द्वार-द्वार गूँजा भारत माता की जय का स्वर.,

 

इक बूँद लहू की जिन्दा है जब तक रग-रग में,
दुश्मन भारत का जिन्दा नही बचेगा जग में.,

 

अनेकों शहादत के बाद आजाद हुए है हम,
कोई पूछे कौन हो, तो गर्व से कहेंगे भारतीय है हम.,

 

माना दिल भारत को 15 अगस्त को मिली,
मगर धड़कने तो 26 जनवरी को ही मिली.,

 

भारत की शान हमेशा बढ़ाऊंगा,
भगवान के मूरत जैसे दिल में बसाऊंगा,
अगर मिला मौका देश के काम आने का,
तो बिना डरे हर मुसीबत से लड़ जाऊँगा.,

 

 

कभी कम नही होने देंगे भारत की शान को,
कभी नहीं भूलेंगे देश के वीरों के बलिदान को.,

 

लहराएगा तिरंगा अब आसमान पर,
भारत का नाम होगा सबकी जुबान पर,
ले लेंगे उसकी जान या खेलेंगे अपनी जान पर,
कोई जो उठाएगा आख हमारे हिन्दुस्तान पर.,

 

मैं इसका हनुमान हूँ, ये देश मेरा राम है,
छाती चीर कर देख लो अंदर हिन्दुस्तान है.,

 

मैं शिव भक्त हूँ जिसकी जटा में विराजमान है गंगा,
मैं देशभक्त भी हूँ जिसे प्राणों से प्यार है तिरंगा.,

 

मरते दम तक मेरी जुबान पर इक नाम रहेगा,
मेरा भारत महान है और हमेशा महान रहेगा.,

 

वह वीर धन्य है और क्या कहूँ,
देश के काम आये जिसका लहू.,

 

ऐ मेरे वतन के लोगो खूब लगा लो नारा,
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा,
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए,
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये.,

 

दाग गुलामी का धोया है जान लुटाकर,
दीप जलायें है कितने दीप बुझाकर,
मिली है जब ये आज़ादी तो फिर इस आजादी को,
रखना होगा हर दुश्मन से आज बचाकर.,

 

मातृभूमि ऐसी जिसे कोई ना छोड़ पायेगा,
माँ-बेटे का रिश्ता कोई ना तोड़ पायेगा,
दिल हमारा एक है, एक हमारी जान है,
हिंदुस्तान हमारा है और हम इसकी शान है.,

 

इतना भी मत मरो सनम बेवफा के लिए,
दो गज जमीन भी नहीं मिलेगी दफन के लिए,
मरना है तो मरो अपने वतन के लिए,
हसीना भी दुपट्टा निकाल देगी कफन के लिए.,

 

Conclusion

यही सभी 26 January Shayari आप सभी को काफी पसंद आई होंगी अगर नहीं तो आप हमे कमेन्ट मे बताए हम अपने अगले पोस्ट व  Hindi Shayari मे कुछ अच्छा सुधार करेंगे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.