Bedardi Shayari | 100+ Bedardi Shayari in Hindi with Image

दोस्तों आज हम आपको इस पोस्ट के मध्यम से Bedardi Shayari के बारे मे बताने जा रहे जोकी आपको बहुत ज्यादा पसंद आएगी क्योंकि यह सभी स्पेशल Bedardi Shayari खास हम उन लोगों के लिए लाए जो की हमेशा अपने दर्द भरे दिल की सलामिति के लिए इस तरह की शायरी खोज करते क्योंकि इस तरह की बेदर्दी शायरी पढ़ने के उनको खुद बहुत ही ज्यादा अच्छा स महसूस होता है।

क्योंकि जब वह सभी लोग इस टाइप की Bedardi Shayari को पढ़ते तो उनको यह लगता की जो उनका दिल है जोकी किसी वजह से टूट चुका है उस पर कोई मलहम लगा रहा जिससे उसका घाव कुछ हद तक कम हो रहा है। इस वजह से लोग इस Bedardi Shayari को खोजते ताकि वह इसे पढे और अपने दिल के घाव को भर सके।

 

Bedardi Shayari in Hindi

अब आइए आपको हम यह Bedardi Shayari in Hindi पढ़ाने जा रहे जोकी आपको और भी ज्यादा पसंद आने वाली है। तो आइए बिना समय बर्बाद करे पढे इन सभी Bedardi Shayari की और अपने घाव को और भी कम करे।

 

जख्म जब मेरे सीने के भर जाएंगे,

आँसू भी मोती बन के बिखर जाएंगे,

ये मत पूछना किसने दर्द दिया,

वरना कुछ अपनों के चेहरे उतर जाएंगे.,

 

कागज की कश्ती से पार जाने की ना सोच,

उड़ते हुए तूफानों को हाथ लगाने की ना सोच,

ये मोहब्बत बड़ी बेदर्द है इससे खेल ना कर,

मुनासिब हो जहाँ तक दिल बचाने की सोच.,

 

रोज़ उदास होते है हम,

और रात गुजर जाती है,

कहने को तो जी रहे है लेकिन,

हर पल हर लम्हा सांस निकलती जाती है.,

 

प्यार सभी को जीना सिखा देता है,

वफा के नाम पर मरना सिखा देता है,

प्यार नहीं किया तो कर के देख लो यारों,

जालिम हर दर्द सहना सिखा देता है.,

 

कह कर तुम बता नहीं सकते,

प्यार को अपने जता नहीं सकते,

फिर क्या फायदा तुम्हारी दोस्ती का,

जब एक भी वादा तुम निभा नहीं सकते.,

 

Bedardi Shayari

 

और भी कर देता है मेरे दर्द में इज़ाफ़ा,

तेरे रहते हुए गैरों का दिलासा देना.,

 

तू देख सकता काश रात के पहरे में मुझको,

कितनी बेदर्दी से तेरी याद मेरी नींद चुरा लेती है.,

 

सब सो गए अपना दर्द अपनों को सुना के,

कोई होता मेरा तो मुझे भी नींद आ जाती.,

 

टूटा हो दिल तो दुःख होता है,
करके मोहब्बत किसी से ये दिल रोता है,
दर्द का एहसास तो तब होता है,
जब किसी से मोहब्बत हो और,
उसके दिल में कोई और होता है.,

 

उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है,
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है.,

 

Judai Shayari

 

कदम कदम पर बहारो ने साथ छोडा,
जरुरत पडने पर यारो ने साथ छोडा,
बादा किया सितारोँ ने साथ निभाने का,
सुबह होने सितारो ने साथ छोडा.,

 

इश्क़ सभी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पर मरना सीखा देता है,
इश्क़ नहीं किया तो करके देखो,
ज़ालिम हर दर्द सहना सीखा देता है.,

 

आखरी बार तेरे प्यार को सजदा कर लू,
लौट के फिर तेरी महफ़िल में नही आऊंगा,
अपनी बर्बाद मोहब्बत का जनाज़ा लेकर,
तेरी दुनिया से बहुत दूर चला जाऊंगा.,

 

मेरी चाहत ने उसे ख़ुशी दे दी,
बदले में उसने मुझे सिर्फ ख़ामोशी दे दी,
खुदा से दुआ मांगी मरने की,
लेकिन उसने बी तड़पने की लिए ज़िन्दगी दे दी.,

 

 सुना था कभी किसी से,
ये मोहब्बत की दुनिया है,
हमने भी दिल लगा के देखा तो ये जाना,
मतलब की दुनिया है और ये तो जालिमों से भरा है.,

 

Bedardi Shayari

 

 गम न कर हम तेरी राह में नहीं आयेगे,
अगर आह भी गए तो तुझसे नज़रे नही मिलायेगे,
जब होगा तुझे अपनी गलती का एहसास,
तब तक हम किसी और के हो जायेंगे.,

 

दर्द बन के दिल में छुपा कौन है,
रह रह कर इसमें चुबता कौन है,
एक तरफ दिल है और एक तरफ आइना,
देखना है इस बार पहले टूटता कौन हो.,

 

 मैं मर जाऊ तो मुझे जला देना,
उससे पहले मेरा दिल को निकाल लेना,
मुझे परवाह नहीं इस दिल की जल जाने की,
मुझे परवाह है इस दिल में रहने वाली की.,

 

 दुनिया ने हम पे जब कोई इल्जाम रख दिया,
हमने मुकाबिल उसके तेरा नाम रख दिया,
इक ख़ास हद पे आ गई जब तेरी बेरुखी,
नाम उसका हमने गर्दिशे-अय्याम रख दिया.,

 

दर्द का साज़ दे रहा हूँ तुम्हे,
दिल का हर राज़ दे रहा हूँ ‍‌तुम्हे,
ये गज़ल-गीत सब बहाने हैं,
मैं तो आवाज़ दे रहा हूँ ‍‌तुम्हे.,

 

Couple Shayari

 

शिद्दते दर्द में ना आई कोई भी कमी,
दर्द फिर दर्द रहा उल्टा लिखा सीधा लिखा.,

 

बात करनी थी बात कौन करे,
दर्द से दो-दो हाथ कौन करे,
हम सितारे तुम्हें बुलाते हैं,
चाँद न हो तो रात कौन करे.,

 

किसी के काम जो आये उसे इंसान कहते है,
पराया दर्द अपनाये उसे इंसान कहते है.,

 

कौन से लफ्ज़ में मैं दर्द की सदा लिखूं,
किस तरह मैं अपने ही दिल को बेवफा लिखूं.,

 

ज़मीन है हम यह आसमान तुम्हारा है,
दिन है सभी का पर यह शाम तुम्हारा है,
पत्थरों की मूरत में दब गयी है ज़िंदगी मेरी.,

 

Bedardi Shayari

 

दर्द-ए दिल भी न किसी से कह सके,
और आह भी न हम दबी रख सके.,

 

दर्द ए दिल को सीने में छुपाना आ गया,
मचलती हसरतों को अब दबाना आ गया,
ना रखता हूँ उम्मीद ए वफा एहले जहाँ में,
हसीन चेहरों से नकाब हमें उठाना आ गया.,

 

यह ग़ज़लों की दुनिया भी अजीब है,

यहाँ आँसुओं का भी जाम बनाया जाता है,

कह भी देते हैं अगर दर्द-ए-दिल की दास्तान,

फिर भी वाह-वाह ही पुकारा जाता है.,

 

हाले-दिल उन्हें सुनाने गए थे,
उन्हें बेहाल छोड़ चले आये,
हमें उनसे उन्हें किसी और से इश्क था,
दिल खुद का तोड़ चले आये.,

 

तेरी बेवफाई को भुला ना सकेगें,
चाहे भी तो कभी मुस्कुरा ना सकेगें,
तुझ को तो मिल गया यार अपना,
अपना किसी को हम बना ना सकेगें.,

 

Bedard Shayari

दोस्तों अब आइए आपको हम इस पोस्ट मे Bedard Shayari पढ़ाने जा रहे जोकी आपको और भी ज्यादा पसंद आएगी क्योंकि इन सभी Bedardi Shayari मे आपको काफी कुछ नई शायरी मिलेगी।

 

ना जाने मेरी MAUT कैसी होगी,
पर ये तो तय है की,
तेरी BEWAFAI से तो,
BEHTAR होगी.,

 

हम तो तेरे दिल की महफिल सजाने आये थे,
तेरी कसम तुझे अपना बनाने आये थे,
किस बात की सजा दी तूने हमको,
बेवफा हम तो तेरे DARD को अपनाने आये थे.,

 

तेरी बेवफाई का किस्सा जब-जब याद आयेगा,
मेरे तन बदन में एक आग सी भड़कायेगा,
जो तूने किया कोई दुश्मन भी नहीं ऐसा करता,
देख लेना एक दिन तू भी बहुत पछतायेगा.,

 

चाँद तारे जमीन पर लाने की जिद थी,
हमें उनको अपना बनाने की जिद थी,
अच्छा हुआ वो पहले ही हो गई BEWAFA,
वरना उन्हे पाने को जमाना जलाने की जिद थी.,

 

इतनी बेदर्दी से दिल को मेरे वो तोड़ देगी,
यह मालूम ना था मुझे, अकेला वो छोड़ देगी,
ये मेरे मासूम दिल तू तनहाई से प्यार कर ले,
बेवफा भी अब वफा का साथ छोड़ देगी.,

 

Bedardi Shayari

 

आज अचानक तेरी याद ने मुझे रुला दिया,
क्या करूँ तुमने जो मुझे भुला दिया,
ना करती वफा ना मिलती ये सजा,
शायद मेरी वफाओं ने ही तुझे बेवफा बना दिया.,

 

उसने दर्द इतना दिया कि सहा ना गया,
उसकी आदत सी थी इसलिए रहा न गया,
आज भी रोती हूं उसे दूर देख के,
लेकिन दर्द देने वाले से यह कहा ना गया.,

 

प्यार सभी को जीना सिखा देता है,
वफा के नाम पर मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो कर के देख लो यारों,
जालिम हर दर्द सहना सिखा देता है.,

 

दर्द बहुत हुआ दिल के टूट जाने से,
कुछ न मिला उनके लिए आँसू बहाने से,
वो जानते थे वजह मेरे दर्द की,
फिर भी बाज़ न आये मुझे आजमाने से.,

 

छिपा कर दर्द अपनी हंसी में,
मै अंदर से खोखला हो रहा हूं,
क्या सुन सकता है तू मेरी आवाज़,
मै आज भी सिर्फ तेरे लिए रो रहा हूँ.,

 

इतनी फिक्र ना किया करो हमारी,
हम शर्म के मारे झुक जाएंगे,
ज़िन्दगी में आगे ना बढ़ पाएंगे,
बस तेरी ही गली में रुक जाएंगे.,

 

दुख होता है बहुत ज्यादा मुझको,
जब अपनों का साथ अचानक छूट जाता है,
कुछ कर नहीं पाता कुछ कह नहीं पाता,
हर बार ये दिल अकेला रह जाता है.,

 

भुला कर तुझको मै संभल तो गया हूं,
लेकिन अंदर से अभी भी टूटा हुआ हूं,
मेरा मन तो खुश है तेरे जाने के बाद,
लेकिन दिल से अभी भी रूठा हुआ हूं.,

 

तेरी याद आई तो थोड़ा उदास हो जाऊंगा,
ज़िन्दगी से फिर एक बार निराश हो जाऊंगा,
कभी सोचा भी ना था ऐसा भी होगा,
तेरी ख़ुशी के लिए मै खुद को रूलाऊंगा.,

 

ठोकर खाते हैं और मुस्कराते हैं,
इस दिल को सब्र करना सिखाते हैं,
हम दर्द लेकर भी लोगों को याद करते हैं,
और लोग दर्द देकर भी लोगों को भूल जाते हैं.,

 

Bedardi Shayari

 

उदास ना होना अगर मुलाक़ात ना हो;
ख़फ़ा ना होना अगर आपसे बात ना हो;
खुदा करे ज़िन्दगी खुशियों से सजे आपकी;
भुला लेना उस वक़्त जब आपकी दिन से रात ना हो.,

 

तेरे प्यार के दर्द में रात भर नहीं सोते है,
ये नैना तेरी याद में हर पल रोते है,
आंखे बंद भी नहीं कर सकता हूं मै अपनी,
बंद करके भी ये नैना तेरे ही ख्वाबों में खोते है.,

 

मुझको तो दर्द-ए-दिल का मज़ा याद आ गया,
तुम क्यों हुए उदास तुम्हें क्या याद आ गया,
कहने को जिंदगी थी बहुत मुख्तसर मगर,
कुछ यूँ बसर हुई कि खुदा याद आ गया.,

 

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम.,

 

मेरे इस दर्द की वजह भी वो हैं,
और मेरे दर्द की दवा भी तो वो हैं,
वो नमक ज़ख्मों पे लगाते हैं तो क्या,
मोहब्बत करने की वजह भी तो वो हैं.,

 

दिल में है जो दर्द वो दर्द किसे बताएं,
हंसते हुए ये ज़ख्म किसे दिखाएँ,
कहती है ये दुनिया हमे खुश नसीब,
मगर इस नसीब की दास्ताँ किसे बताएं.,

 

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम में आँसू न बहते तो और क्या करते,
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम अपना दिल न जलाते तो और क्या करते.,

 

प्यार सभी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पे मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो करके देख लो यार,
ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है.,

 

दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता,
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता.,

 

दिल को ऐसा दर्द मिला जिसकी दवा नहीं,
फिर भी खुश हूँ मुझे उस से कोई शिकवा नहीं,
और कितने अश्क बहाऊँ अब उस के लिए,
जिसको खुदा ने मेरी किस्मत में लिखा ही नहीं.,

 

 

वो रात दर्द और सितम की रात होगी,
जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी,
उठ जाता हूँ मैं ये सोचकर नींद से अक्सर,
कि एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी.,

 

अगर मोहब्बत की हद नहीं कोई,
तो दर्द का हिसाब क्यूँ रखूं.,

 

गुलशन की बहारों पे सर-ए-शाम लिखा है,
फिर उस ने किताबों पे मेरा नाम लिखा है,
ये दर्द इसी तरह मेरी दुनिया में रहेगा,
कुछ सोच के उस ने मेरा अंजाम लिखा है.,

 

आँखों में उमड़ आता है बादल बन कर,
दर्द एहसास को बंजर नहीं रहने देता.,

 

रोज़ पिलाता हूँ एक ज़हर का प्याला उसे,
एक दर्द जो दिल में है मरता ही नहीं है.,

 

पास जब तक वो रहे दर्द थमा रहता है,
फैलता जाता है फिर आँख के काजल की तरह.,

 

अपना कोई मिल जाता तो हम फूट के रो लेते,
यहाँ सब गैर हैं तो हँस के गुजर जायेगी.,

 

अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उमीदों,
बहुत दर्द सह लिए मैंने बहुत दिन जी लिया मैंने.,

 

सब सो गए अपना दर्द अपनों को सुना के,
कोई होता मेरा तो मुझे भी नींद आ जाती.,

 

झूठी हँसी से जख्म और बढ़ता गया,
इससे बेहतर था खुलकर रो लिए होते.,

 

 

मुझको तो दर्द-ए-दिल का मज़ा याद आ गया,
तुम क्यों हुए उदास तुम्हें क्या याद आ गया,
कहने को जिंदगी थी बहुत मुख्तसर मगर,
कुछ यूँ बसर हुई कि खुदा याद आ गया.,

 

एक दो ज़ख्म नहीं जिस्म है सारा छलनी,
दर्द बेचारा परेशान है कहाँ से निकले.,

 

अब दर्द उठा है तो गज़ल भी है जरूरी,
पहले भी हुआ करता था इस बार बहुत है.,

 

वो तो अपना दर्द रो-रो कर सुनाते रहे,
हमारी तन्हाइयों से भी आँख चुराते रहे,
हमें ही मिल गया खिताब-ए-बेवफा क्योंकि,
हम हर दर्द मुस्कुरा कर छुपाते रहे.,

 

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम.,

 

मंजिलों से बेगाना आज भी सफ़र मेरा,
है रात बेसहर मेरी दर्द बेअसर मेरा.,

 

लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर,
मैंने दर्द की अपने नुमाईश न की,
जब जहाँ जो मिला अपना लिया,
जो न मिला उसकी ख्वाहिश न की.,

 

यूँ तो हर एक दिल में दर्द नया होता है,
बस बयान करने का अंदाज़ जुदा होता है,
कुछ लोग आँखों से दर्द को बहा लेते हैं,
और किसी की हँसी में भी दर्द छुपा होता है.,

 

मेरे इस दर्द की वजह भी वो हैं,
और मेरे दर्द की दवा भी तो वो हैं,
वो नमक ज़ख्मों पे लगाते हैं तो क्या,
मोहब्बत करने की वजह भी तो वो हैं.,

 

Conclusion

यही सभी Bedardi Shayari आप सभी को काफी पसंद आई होंगी अगर नहीं तो आप हमे कमेन्ट मे बताए हम अपने अगले पोस्ट व  Hindi Shayari मे कुछ अच्छा सुधार करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.