Gulab Shayari | 100+ Gulab Ke Phool Par Shayari in Hindi with Image

Gulab Shayari – दोस्तों आप सभी की गुलाब तो बेहद पसंद होगा क्योंकि गुलाब एक ऐसा फूल होता जिसे पाने के बाद हर कोई यही समझता की सामने वाले के लिए मैं बहुत ही प्रिय हु। लेकिन बहुत बार ऐसा हो जाता की आप किसी को गुलाब देना चाहते लेकिन उस तक आप गुलाब पहुच नहीं पते है।

इस लिए आज हम आपको कुछ गुलाब शायरी देने जा रहे जिसे आप अपने दोस्तों को जब चाहे तब भेज सकते भले ही यह गुलाब फूल नहीं है। लेकिन यह उससे काम भी नई क्योंकि Gulab Shayari मे वह सभी चीज छुपी हुई जो अपने दोस्तों को एक गुलाब पाने के बाद खुसी होगी वह सभी खुसी इन Gulab Shayari मे आपको मिल जाएगी।

इस लिए आप सभी इन Shayari on Gulab को अपने उन दोस्तों को भेजे या आप अपने उन प्रिय दोस्तों को भेजे जिनको आप बहुत अधिक चाहते हो क्योंकि भले ही यह Gulab Ka Phool Shayari कुछ साधारण से शब्द है। लेकिन इन शब्द के हर अझर मे किसी को खुसी देने वाली वह सभी चीज मिल जाएगी जो आपको सभी से अलग बना सकती है।

तो आइए मिल कर पहले पढे इन सभी Gulab Shayari को फिर इन सभी गुलाब शायरी को हम अपने दोस्तों को शेयर भी करेंगे ताकि वह इन्हे पढ़ कर और अधिक खुस हो सके। इन्ही के साथ इनको भी पढे Mp4Moviez & Filmywap जानकारी के लिए।

 

Gulab Ke Phool Par Shayari

इन सभी Gulab Ke Phool Par Shayari मे आपको वह सभी अच्छी शायरी मिल जाएगी जो आपको बहुत अधिक खुसी दे सकती है। इन Gulab Shayari को भले ही आप गुलाब नहीं बना सकते लेकिन  इसे गुलाब की तरह से छुपा के रख सकते है।

 

फूल खिलते रहे आपकी ज़िन्दगी की राहो में,
हंसी चमकती रहे आपकी निगाहों में,
कदम कदम पर मिले खुशियाँ आपको,
दिल देता हैं यही दुआ बार बार आपको.,

 

चेहरा आपका खिला रहे गुलाब की तरह,

नाम आपका रोशन रहे आफताब की तरह,

ग़म में भी आप हँसते रहे फूलों की तरह,

अगर हम इस दुनिया में न रहें आज की तरह.,

 

आज सोचा की आपको जवाब में क्या दूँ,

आप जैसे लोगो को ख़िताब क्या दूँ,

कोई और फूल हो तो मुझको नहीं मालूम,

जो खुद फूल हो उसे क्या गुलाब दूँ.,

 

प्यार तो तुमसे किया है पर गुलाब की तारीफ हो रही है,

चमक मेरे मेहबूब की है पर खुसबू गुलाब की है.,

 

चेहरा आपका किसी गुलाब से कम नहीं,

आपका किसी के साथ कोई हिसाब नहीं,

मेरी मोहब्बत को आवारगी न समझना,

क्योंकि मेरी मोहब्बत का कोई जवाब नहीं.,

 

gulab shayari

 

फूल बनकर मुस्कुराना ज़िन्दगी है,
मुस्कुरा के गम भुलाना ज़िन्दगी है,
जीत कर कोई खुश हो तो क्या हुआ,
हार कर खुशियां मनाना भी ज़िन्दगी है.,

 

मोहब्बत लफ़्ज़ों की मोहताज़ नहीं होती,
जॉब तन्हाई में आपकी याद आती है,
होंठो पे एक ही फरियाद आती है,
खुद आपको हर ख़ुशी दे,
क्योंकि आज भी हमारी हर ख़ुशी आपके बाद आती है.,

 

गुलाबो से बढ़ कर गुलाब दूँ आपको,
गुलाब की खुशबू से वार दूँ आपको,
हो हर लम्हे में खूबसूरत एहसास आपको,
उतना हर पल में में प्यार दूँ आपको.,

 

 प्यार के समंदर में डूबना चाहते है,
प्यार में कुछ खोते है तो कुछ पाते है,
एक गुलाब है जिसे सब तोडना चाहते है,
हम तो इस गुलाब को चूमना चाहते है.,

 

तारों में चाँद जैसी हो,
सावन की घटा- ए-बहार जैसी हो,
हो खूबसुरत तुम फूलो जैसी,
और फूलो में भी तुम गुलाब जैसी हो.,

 

Exam Shayari

 

सोच रहे है तुमको अपना प्यार कैसे भेजे,
ढूंढ के लाया हु जो ख़ुश्बू वो उस पार कैसे भेजे,
संजो के राखी है जो मोहब्बत अपनी इस ग़ुलाब में,
सोच रहा है वो गुलाब आपके पास कैसे भेजे.,

 

दोस्ती का रिश्ता अनोखा है ना गुलाब सा है ना काँटों सा,
दोस्ती का रिस्ता तो उस डाली की तरह है जो गुलाब और कांटे,
दोनों को एक साथ जोड़े रखता हे आखरी दम तक.,

 

ये लम्हा मेरी मोहब्बत से भरा है,
ये समां मेरी मोहब्बत से भरा है,
इस गुलाब को सिर्फ गुलाब मत समझना,
गौर से देखना ये गुलाब मेरी मोहब्बत से भरा है.,

 

चला जा SMS गुलाब बन के,
होगी सच्ची दोस्ती तो आएगा जवाब,
अगर ना आये तो मत होना उदास,
बस समझ लेना की मेरे लिए वक़्त नहीं था उनके पास.,

 

तेरा मेरा साथ इतना पुराना हो गया,
बदलते बदलते मौसम सुहाना हो गया,
याद है वो हमारी पेहली मुलाकात,
तू मेरी दीवानी, में तेरा दीवाना हो गया.,

 

shayari on gulab

 

मोहब्बत लफ़्ज़ों की मोहताज नहीं होती!
जब तन्हाई में आपकी याद आती है,
होंठो पे एक ही फरियाद आती है,
खुदा आपको हर ख़ुशी दे,
क्योंकि आज भी हमारी हर ख़ुशी आपके बाद आती है.,

 

बड़े ही नाजुक से पाली हो तुम,
इसलिए तो गुलाब की कली हो तुम,
जिससे मिलने की बेकरारी सताए,
दिल में आने वाली ख़लबली हो तुम.,

 

मेरा हर ख्वाब आज हक़ीक़त बन जाये,
जो हो बस तुम्हारे साथ ऐसी ज़िन्दगी बन जाये,
हम लाये लाये लाखो में एक गुलाब तुम्हारे लिए,
और ये गुलाब महोब्बत की शरुआत बन जाये.,

 

टूटा हुआ फूल खुसबू दे जाता है,
बिता हुआ पल यादें दे जाता हैं,
हर शख्स का अपना अंदाज़ होता है,
कोई ज़िन्दगी में प्यार तो,
कोई प्यार में ज़िन्दगी दे जाता हैं.,

 

बड़े ही चुपके से भेजा था,

मेरे महबूब ने मुझे एक गुलाब,

कम्बख्त उसकी खुशबू ने,

सारे शहर में हंगामा कर दिया.,

 

Desi Shayari

 

मेरा हर ख्वाब आज हकीकत बन जाये,

जो हो बस तुम्हारे साथ ऐसी ज़िन्दगी बन जाये,

हम लाये लाखो में एक गुलाब तुम्हारे लिए,

और ये गुलाब मोहब्बत की शुरुआत बन जाये.,

 

खुशबू में डूब जायेंगी यादों की डालियाँ,

होंठों पे फूल रख के कभी सोचना मुझे.,

 

सारी उम्र में एक पल भी आराम का न था,

वो जो दिल मिला किसी काम का न था,

कलियाँ खिल रही थी हर गुलाब था ताज़ा,

मगर कोई भी गुलाब मेरे नाम का न था.,

 

मोहब्बत भरी नज़रों में ख़्वाब मिलेंगे,

कहीं कांटे तो कहीं गुलाब मिलेंगे,

मेरे दिल की किताब को पढ़ के तो देखो,

कहीँ आपकी याद तो कहीं खुद आप मिलोगे.,

 

उनकी जुल्फों की खूबसूरती और बढ़ गई,

जब एक गुलाब उनके बालो में सज गई.,

 

gulab ke phool par shayari

 

ये सिर्फ एक गुलाब नही,

मेरी प्यार की निशानी है,

रखना इसे आप संभाल के,

इस के हर पत्ते में छुपी,

हमारे प्यार की कहानी है.,

 

सफर वही तक है जहाँ तक तुम हो,

नजर वही तक है जहाँ तक तुम हो,

हजारों फूल देखे है इस गुलशन में मगर,

खुशबू वही तक है जहाँ तक तुम हो.,

 

गुलाब है ये गुलाब का,

मगर इसमें भी कांटे है,

मोहब्बत ने खुशी दी है,

तो इसने गम भी बांटे है.,

 

बीते साल के बाद फिर से रोज डे आया हैं,
मेरी आँखों में सिर्फ तेरा ही सुरूर छाया हैं,
जरा तुम आकर तोह देखो एक बार के,
तुम्हारे इंतजार में पुरे घर को सजाया हैं.,

 

मेरी दीवानगी की कोई हद नहीं,
तेरी सूरत के सिवा मुझे कुछ याद नहीं,
मैं गुलाब हूँ तेरे गुलशन का,
तेरे सिवाए मुझपर किसी का हक़ नहीं.,

 

Shayari on Gulab

दोस्तों अब आपको कुछ स्पेशल Shayari on Gulab पर पढ़ाएंगे जो आपको बेहद पसंद आने वाली है क्योंकि जब तक आपको कुछ ऐसी Gulab Par Shayari न पढ़ाएंगे तब तक सब बेकार है इस लिए आइए अब पढ़ जाए बेहद अच्छी और बढ़िया सी यह गुलाब शायरी बिना परेशानी।

 

गुलाब की खूबसूरती भी फिकी सी लगती हैं,
जब तेरे चेहरे पर मुस्कान खिल उठती हैं,
यूँही मुस्कुराते रहना मेरे प्यार तू,
तेरी खुशियों से मेरी साँसे जी उठती हैं.,

 

बड़े ही चुपके से भेजा था,
मेरे मेहबूब ने मुझे एक गुलाब,
कम्भख्त उसकी खुशबू ने,
सारे शहर में हंगामा कर दिया.,

 

फूलों जैसी लवों पर हसी हो,
जीवन में आपको कोई न बेबसी हो,
ले आये हम प्यारा सा गुलाब आपके लिए,
बस इस गुलाब जैसी प्यारी आपकी जिन्दगी हो.,

 

किसने कहा पगली तुझसे कि,
हम तेरी खूबसूरती पर मरते हैं,
हम तो तेरी गुलाबी आँखों पर मरते हैं,
जिस अदा से तू हमें देखती है.,

 

इस चमन से जुदा हुआ एक गुलाब हूँ मैं,
खुद अपनी ही तबाही का जवाब हूँ मैं,
यूँ नजरे न फेर मुझसे ऐ मेरे सनम,
तेरी चाहतों में ही बर्बाद हुआ हूँ मैं.,

 

gulab ka phool shayari

 

मेरे आंसुओं में तू ही छुपी रहती हैं,
रोज आंखों से तू ही तो बरसती हैं,
किसी गुलाब की बेटी है तू शायद,
इसलिए मुरझाकर भी महकती हैं.,

 

गुलशन का हर एक गुलाब परखा हमने,
फिर चुना एक गुलाब है,
लाये बड़े प्यार से है जिसके लिए,
वो खुद एक खूबसूरत गुलाब है.,

 

आज दिल चाहता है तुझे गुलाब से सजा दूं,
प्यार सारा तुझ पर लुटा दूँ,
आकर तेरी जुल्फों के सायें में,
सारी दुनिया को भुला दूँ.,

 

लफ्जों की तरह तुझे किताबों में मिलेंगे,
बन के महक तुझे गुलाबों में मिलेंगे,
खुद को कभी अकेला मत समझना,
हम तुझे तेरे दिल में या तेरे ख्यालों में मिलेंगे.,

 

जिसको पा ना सके वो जनाब हो आप,
मेरी ज़िन्दगी का पहला खवाब हो आप,
लोग चाहे कुछ भी कहे आपको,
लेकिन मेरे लिए सुन्दर सा गुलाब हो आप.,

 

गुलाब तो टूट कर बिखर जाता है,
पर खुशबु हवा में बरकरार रहती हैं,
जाने वाले तो छोड़ कर चले जाते हैं,
पर एहसास तो दिलों में बरकरार रहते हैं.,

 

गिन गिन के लाये गुलाब हम प्यारे,
जैसे तारों में कुछ खूबसूरत तारे,
तुम इन्हें रखना संभाल के सनम,
यही भरे है प्यार से हमारे.,

 

तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने,
सूख गया तेरा गुलाब मगर फ़ेका नहीं मैंने.,

 

किसी ने फूल से पूछा कि,
जब तुम्हें तोड़ा गया तो तुम्हें दर्द नहीं हुआ,
फूल ने जवाब दिया,
तोड़ने वाला इतना खुश था कि,
मैं अपना दर्द भी भूल गया.,

 

जिन्दगी में कई मुश्किलें आती हैं और,
इन्सान जिन्दा रहने से घबराता है,
ना जाने हजारों काँटों के बीच,
रह कर भी एक फूल मुस्कुराता है.,

 

hindi shayari on gulab

 

तारों में अकेला चाँद जगमगाता है,
मुश्किलों में अकेला इंसान ही डगमगाता है,
काँटों से मत घबराना मेरे दोस्त,
क्योंकि काँटों में ही एक गुलाब मुस्कुराता है.,

 

काँटा न होता तो फूल की हिफाजत न होती,
अँधेरा न होता तो रोशनी की जरुरत न होती,
अगर मिल जाती खुशियाँ दुनिया में आसानी से,
तो दिल की मुलाकात दर्द से न होती.,

 

फूल इसीलिए अच्छे कि खुश्बू का पैगाम देते हैं,
कांटे इसलिये अच्छे हैं कि दामन थाम लेते हैं,
दोस्त इसलिये अच्छे हैं कि वो मुझ पर जान देते हैं,
दुश्मनों को मैं कैसे खराब कह दूँ,
वो ही तो हैं जो महफिल में मेरा नाम लेते हैं.,

 

गुलाब उसे भेजता हूँ जिससे प्यार निभा सकूँ,
चाहता हूँ उसको जिसे पा सकूँ,
दिल में आपकी जगह है बहुत खास,
सारी ख़्वाहिशें पूरी हो जाती है,
जब होती हो तुम पास.,

 

आशिक़ों के महबूब के पैरो की धूल हूँ,
हाँ मैं एक लाल गुलाब का फूल हूँ,
होठों जैसे पंखुड़ियाँ मेरी कोमल,
काँटों से बच के ज़रा कहीं हो न जाओ घायल.,

मैं तोहफा बनकर पहुँच जाता हूँ जहाँ,
मुझे देख मुस्कुरा देता है सारा जहाँ.,

 

अजीब ख्वाहिश में हम खो जाए,
तुम्हारी गोद में सर रखकर सो जाए,
हम पे तुम एक एहसान तो करदो,
एक बार अपना दिल हमारे नाम तो करदो.,

 

Ek Gulab Shayari

यह Ek Gulab Shayari खास उन लोगों के लिए हम पेस कर रहे जो आपके लिए बहुत ही ज्यादा खास है भले ही यह शायरी आपको साधारण लगे लेकिन इनमे आपको बहुत अच्छी सी खुसी वाली शायरी मिलेगी जो आपको बहुत पसंद आने वाली है।

 

फ़िजा में महकती शाम हो तुम,
प्यार का छलकता जाम हो तुम,
सीने में छुपाये फ़िरते हैं हम याद तुम्हारी,
मेरी जिन्दगी का दूसरा नाम हो तुम.,

 

फूल बनकर हम महकना जानते हैं,
मुस्कुरा के हम गम भूलना जानते हैं,
लोग ख़ुश होते हैं हमसे क्योकि,
बिना मिले ही हम रिश्ते निभाना जानते हैं.,

 

फूल बनकर मुस्कुराना ज़िन्दगी,
मुस्कुरा के गम भुलाना ज़िन्दगी,
जीत कर कोई खुश हो तो क्या हुआ,
हार कर खुशियां मनाना भी ज़िन्दगी है.,

 

फूल खिलते रहे ज़िन्दगी की राह में,
हँसी चमकती रहे आपकी निगाह में,
कदम कदम पर मिले ख़ुशी की बहार आपको,
दिल देता है यही दुआ बार बार आपको.,

 

बहाने से आपकी बात करते है,
हर पल आपको महसूस करते है,
इतनी बार सांस न लेते होंगे,
जितनी बार हम आपको याद करते है.,

 

 

मेरा हर ख्वाब आज हक़ीक़त बन जाये,
जो हो बस तुम्हारे साथ ऐसी ज़िन्दगी बन जाये,
हम लाये लाये लाखो में एक गुलाब तुम्हारे लिए,
और ये गुलाब महोब्बत की शरुआत बन जाये.,

 

चेहरा आपका खिला रहे गुलाब की तरह,

नाम आपका रोशन रहे आफताब की तरह,

ग़म में भी आप हँसते रहे फूलों की तरह,

अगर हम इस दुनिया में न रहें आज की तरह.,

 

गुलाब खिलते रहे ज़िंदगी की राह् में,

हँसी चमकती रहे आप कि निगाह में,

खुशी कि लहर मिलें हर कदम पर आपको,

देता हे ये दिल दुआ बार–बार आपको.,

 

दिल की किताब में गुलाब उनका था,
रात की नींद में ख्वाब उनका था,
कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा,
मर जायंगे तुम्हारे बिना ये जबाब उनका था.,

 

न जाने सालों बाद कैसा समां होगा,
हम सब दोस्तों में से कौन कहा होगा,
फिर अगर मिलना होगा तो मिलेंगे ख्वाबों मे,
जैसे सूखे गुलाब मिलते है किताबों मे.,

 

गुलाब खिलते रहे ज़िंदगी की राह् में,
हँसी चमकती रहे आप कि निगाह में,
खुशी कि लहर मिलें हर कदम पर आपको,
देता हे ये दिल दुआ बार–बार आपको.,

 

दिल की किताब में गुलाब उनका था,
रात की नींद में ख्वाब उनका था,
कितना प्यार करते हो जब हमने पूछा,
मर जायंगे तुम्हारे बिना ये जबाब उनका था.,

 

मैं तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती,
मैं जवाब बनता अगर तू सबाल होती,
सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती.,

 

बड़े ही चुपके से भेजा था,
मेरे महबूब ने मुझे एक गुलाब,
कम्बख्त उसकी खुशबू ने,
सारे शहर में हंगामा कर दिया.,

 

आपके होठो पर सदा खिलता गुलाब रहे,
खुदा ना करे आप कभी उदास रहे,
हम आपके पास चाहे रहे ना रहे,
आप जिन्हें चाहे वोह सदा आपके पास रहे.,

 

 

मेरा हर ख्वाब आज हकीकत बन जाये,
जो हो बस तुम्हारे साथ ऐसी ज़िन्दगी बन जाये,
हम लाये लाखो में एक गुलाब तुम्हारे लिए,
और ये गुलाब मोहब्बत की शुरुआत बन जाये.,

 

गुलाब खिलते रहे ज़िंदगी की राह् में,
हँसी चमकती रहे आप कि निगाह में,
खुशी कि लहर मिलें हर कदम पर आपको,
देता हे ये दिल दुआ बार–बार आपको.,

 

मेरी दीवानगी की कोई हद नहीं,
तेरी सूरत के सिवा मुझे कुछ याद नहीं,
मैं गुलाब हूँ तेरे गुलशन का,
तेरे सिवाए मुझ पर किसी का हक़ नहीं.,

 

सालों बाद न जाने क्या समां होगा,
हम सब दोस्तों में से न जाने कौन कहाँ होगा,
फिर मिलना हुआ तो मिलेंगे ख्बाबों में,
जैसे सूखे गुलाब मिलते हैं किताबों में.,

 

सारी उम्र में एक पल भी आराम का न था,
वो जो दिल मिला किसी काम का न था,
कलियाँ खिल रही थी हर गुलाब था ताज़ा,
मगर कोई भी गुलाब मेरे नाम का न था.,

 

एक दिल मेरे दिल को ज़ख़्म दे गया,
ज़िन्दगी भर जीने की कसम दे गया,
लाखों फूलो में से एक गुलाब चुना हमने,
जो काँटों से भी गहरी चुभन दे गया.,

 

किसी ने मुझ से कह दिया था ज़िंदगी पे ग़ौर कर,
मैं शाख़ पर खिला हुआ गुलाब देखता रहा.,

 

Conclusion

यही सभी Gulab Shayari आप सभी को काफी पसंद आई होंगी अगर नहीं तो आप हमे कमेन्ट मे बताए हम अपने अगले पोस्ट व  Hindi Shayari मे कुछ अच्छा सुधार करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.