Judai Shayari – दोस्तों जब आप किसी से बेपनाह प्यार करो और फिर जन्मों – जन्मों तक जीने की कसमें खाओ और एक दूसरे को अपना सब कुछ समझो तो उसके बाद जब कभी किसी वजह से आप दोनों को किसी न किसी वजह से अलग हो जाना पड़े तो वह जुदाई आपसे बिल्कुल बर्दश नहीं होती क्योंकि जिसके साथ अपने जन्मों – जन्म तक रहने की कसाम खाई हो और अचानक से आपको उससे अलग होना हो तो आपको बहुत बुरा लगेगा।

बुरा के साथ – साथ आपको हमेशा उसकी याद सताते रहेगी और आप हमेशा यही सोचोगे की हमसे क्या गलती हो गई की हम दोनों अलग हो गए और फिर आप उदास रहना चालू कर देंगे। इस लिए आज हम आपके लिए यह Judai Shayari लेकर आए जो आपको बहुत ज्यादा पसंद आएगी साथ मे आप इन सभी Judai Hindi Shayari को अपनी उदासी की दूर करने और अपने उस बीते पल को भुलाने के लिए यह Judai Shayari पढ़ सकते है।

इस Judai Hindi Shayari की मदद से आपको अपने पुराने और बीते पल को भूलने मे बहुत मदद मिलेगी जिसके बाद आप अपने आगे के जीवन को खुशहाली के साथ जी सकोगे क्योंकि जीवन मे अगर खुशी न हो तो जीवन बेकार स लगता है। इस लिए आइए सुरू करे पढ़ना इन सभी Judai Shayari को और फिर इन्हे शेयर करे अपने दोस्तों मे और फिर भुला दे अपने उन सभी बुरे पल को जो हमे हमे कभी खुशी देते थे लेकिन बाद मे उन्होंने हमे धोका दिया।

 

Love Judai Shayari in Hindi

अब आइए आपको हम यह Love Judai Shayari in Hindi पढ़ाने जा रहे जो आपको बहुत पसंद आएगी आप इन सभी Judai Shayari in Hindi की मदद से अपने पुराने प्यार के पल को भुला सकते हो और आगे की जिंदगी को खुशहाल बना सकते हो तो आइए सुरू करे पढ़ना इन सभी Judai Shayari को बिना किसी परेशानी।

 

आपकी सोहबत में हम,

चिरागों की तरह जला करते थे,

आप थे तो रौशनी रोज़ हुआ करती थी.,

 

सब के होते हुए भी तन्हाई मिलती है,

यादों में भी गम की परछाई मिलती है,

जितनी भी दुआ करते हैं किसी को पाने की,

उतनी ही ज्यादा जुदाई मिलती है.,

 

तू क्या जाने क्या है तन्हाई,

इस टूटे हुए दिल से पूछ क्या है जुदाई,

बेवफाई का इल्ज़ाम न दे ज़ालिम,

इस वक़्त से पूछ किस वक़्त तेरी याद नहीं आती.,

 

जिन्दगी आप बिन ऊलझन सी लगती है,

एक पल की जुदाई मुदत सी लगती है,

पहले तो ऐहसास था पर अब यकीन है,

हर लम्हा आपकी जरूरत सी लगती है.,

 

अब जुदाई के सफ़र को मिरे आसान करो,
तुम मुझे ख़्वाब में आ कर न परेशान करो.,

 

Judai Shayari

 

बदन में जैसे लहू ताज़ियाना हो गया है,
उसे गले से लगाए ज़माना हो गया है.,

 

वो आ रहे हैं वो आते हैं आ रहे होंगे,
शब-ए-फ़िराक़ ये कह कर गुज़ार दी हम ने.,

 

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ,
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की.,

 

मिलना था इत्तिफ़ाक़ बिछड़ना नसीब था,
वो उतनी दूर हो गया जितना क़रीब था.,

 

मुझ से बिछड़ के तू भी तो रोएगा उम्र भर,
ये सोच ले कि मैं भी तिरी ख़्वाहिशों में हूँ.,

 

Ahmad Faraz Shayari

 

कुछ ख़बर है तुझे ओ चैन से सोने वाले,
रात भर कौन तिरी याद में बेदार रहा.,

 

याद है अब तक तुझ से बिछड़ने की वो अँधेरी शाम मुझे,
तू ख़ामोश खड़ा था लेकिन बातें करता था काजल.,

 

फ़िराक़-ए-यार ने बेचैन मुझ को रात भर रक्खा,
कभी तकिया इधर रक्खा कभी तकिया उधर रक्खा.,

 

वो शख़्स जिस को दिल ओ जाँ से बढ़ के चाहा था,
बिछड़ गया तो ब-ज़ाहिर कोई मलाल नहीं.,

 

  जुदा होकर भी तुम जुदा ना हो पाए,
तब भी दिल में थे अब भी दिल में हो समाये,
जुदाई ने तुम्हारी मुझे बेहाल कर दिया,
अचानक चले गए ,तुमने कमाल कर दिया.,

 

Judai Shayari

 

वो मेरे लिए कुछ ख़ास है,

जिनके लौट आने की कोई नहीं आस है,

वो नज़रों से दूर हैं तो क्या हुआ,

बनके दिल की धड़कन वो मेरे पास है.,

 

अंगड़ाई पर अगड़ाई लेती है रात जुदाई की,

इंतज़ार की आँधी से पूछ लो सबूत मेरी वफाई की,

तुम क्या जानोगे तुम क्या समझोगे सनम,

तन्हाई भी रो पड़ी है सुनकर बात मेरी तन्हाई की.,

 

दूरी तुझसे मुझे पल पल तड़पा रही है,

तेरे प्यार की खुशबू मुझे पास तेरे बुला रही है,

नहीं है कोई भी गिला मुझे तुझसे क्योंकि,

जानता हूँ मैं जुदाई की आग हम दोनों को जला रही है.,

 

सागर में पानी बहुत है पर,

गागर में भरी नहीं जा सकती,

दिल में हैं इतनी बातें,

जो चिट्ठी में लिखी नहीं जा सकती,

मिल लीजिये हमसे बस एक बार,

अलफ़ाज़ दिल के, दिल में छुपाई नहीं जा सकती.,

 

तुझसे जुदा नहीं हुआ मैं जुदा होकर के भी,

तेरे दिल से दूर नहीं हुआ तुझसे दूर होकर के भी.,

 

Dua Shayari

 

प्यार में अगर जुदाई न होती तो प्यार का पता कैसे चलता,

तुझसे दूर न होता तो इस रूहानी दर्द का पता कैसे चलता.,

 

दूर कब का तुम मुझसे चले गए हो,

बस यादें अपनी यहाँ भूल गए हो.,

 

इतना खुश होकर अब रोना नहीं चाहते,

ये आलम है हमारा आप की जुदाई में.,

 

तेरी जुदाई भी हमें प्यार करती है,

तेरी याद बहुत बेकरार करती है,

वह दिन जो तेरे साथ गुज़ारे थे.,

 

ये कैसी जुदाई है जिसने हमें शायर बना दिया,

ये कैसा गम है जिसने हमें बेबस बना दिया,

सोचा नहीं था जुदा हो जाओगे हमसे कभी,

करते भी क्या जब आप ने ही गैर बना दिया.,

 

Judai Shayari

 

चाँद की तरफ देख के फरियाद मांगते है,

हम जिंदगी में बस तेरा प्यार मांगते है,

भूल के भी कभी मुझसे दूर मत जाना,

हम कौनसा तुझसे तेरी जान मांगते है.,

 

तेरी जुदाई भी हमें प्यार करती है,

तेरी याद बहुत बेकरार करती है,

वह दिन जो तेरे साथ गुज़ारे थे,

नज़रें तलाश उनको बार-बार करती हैं.,

 

जिंदगी में मोहब्बत की जुदाई होती है,

कभी कभी प्यार में बेवफाई होती है,

हमारी तरफ हाथ बढ़ा के तो देखो,

दोस्ती में कितनी सच्चाई होती है.,

 

जब वादा किया है तो निभाएंगे,

सूरज किरण बन कर छत पर आएंगे,

हम हैं तो जुदाई का ग़म कैसा,

तेरी हर सुबह को फूलों से सजाएंगे.,

 

काश यह जालिम जुदाई न होती,

ऐ खुदा तूने यह चीज़ बनायीं न होती,

न हम उनसे मिलते न प्यार होता,

ज़िन्दगी जो अपनी थी वो परायी न होती.,

 

Judai Shayari in Hindi

अब आइए आपको हम यह स्पेशल Judai shayari in Hindi की यह सभी स्पेशल judai sad shayari in hindi आपको पढ़ाने जा रहे जो आपको बहुत ज्यादा पसंद आएगी साथ मे आप इन सभी को शेयर भी कर सकते है।

 

इश्क मुहब्बत तो सब करते हैं,

गम-ऐ-जुदाई से सब डरते हैं,

हम तो न इश्क करते हैं न मुहब्बत,

हम तो बस आपकी एक मुस्कुराहट पाने के लिए तरसते हैं.,

 

हर मुलाकात पर वक्तका तकाज़ा हुआ,

हर याद पे दिल का दर्द ताजा हुआ,

सुनी थी सिर्फ हमने गज़लों मे जुदाई की बातें,

अब खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ.,

 

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,

मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,

जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,

जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते.,

 

जिन्दगी आप बिन ऊलझन सी लगती है,

एक पल की जुदाई मुदत सी लगती है,

पहले तो ऐहसास था पर अब यकीन है,

हर लम्हा आपकी जरूरत सी लगती है.,

 

तू क्या जाने क्या है तन्हाई,

इस टूटे दिल से पूछ क्या है जुदाई,

बेवफाई का इल्ज़ाम न दे ज़ालिम,

इस वक़्त से पूछ किस वक़्त तेरी याद ना आई.,

 

Judai Shayari

 

जिन्दगी आप बिन ऊलझन सी लगती है,

एक पल की जुदाई मुदत सी लगती है,

पहले तो ऐहसास था पर अब यकीन है,

हर लम्हा आपकी जरूरत सी लगती है.,

 

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,

मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,

जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,

जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते.,

 

हमें मालूम है दो दिल जुदाई सह नहीं सकते,

मगर रस्मे-वफ़ा ये है कि ये भी कह नहीं सकते,

जरा कुछ देर तुम उन साहिलों कि चीख सुन भर लो,

जो लहरों में तो डूबे हैं, मगर संग बह नहीं सकते.,

 

तन्हाई ना पाए कोई साथ के बाद,

जुदाई ना पाए कोई मुलाकात के बाद,

ना पड़े किसी को किसी की आदात इतनी,

कि हर सांस भी आए उसकी याद के बाद.,

 

दर्द का बहाना दे कर,
वो आज मयखाने चले हैं,
खुद ही जुदा हुए थे हम से,
पर हमें बेवफा ठहराने चले हैं.,

 

ये वक्त जुदाई का है,
अब हमें जुदा होना होगा,
भूलकर तमाम बातें अपनी,
अब हमें उम्र भर रोना होगा.,

 

हमें जुदाई का गम नहीं,
गम सनम के चुप रहने का है,
दाग बेवफाई का लगा है हम पे,
समय अब सच कहने का है.,

 

इस दिल को आदत ऐसी डाल दी,
नजरों ने तेरी पिलाकर,
पीता हूँ जुदा होने के बाद,
अपने ही अश्कों की मय समझकर.,

 

जब आएगा वक्त ऐ जुदाई,
मुझे तुमसे जुदा होना होगा,
छिपाकर चेहरा तकिया में,
मुझे जी भरकर रोना होगा.,

 

दोनों के दरमियान में अजब फासला रहा,
वो मेरे पास हो कर भी मुझसे जुदा ही रहा,
उसकी जुदाई से आग ऐसी दिल पर लगी,
मैं अपने आपसे कई बरसों तक खफा रहा.,

 

 

जिन्हे हमने चाहा वो निकले बेवफा,
फिर हमें उनसे मिलने की जरुरत क्या है,
राहें जुदा हो गयीं उनसे अब हमारी,
फिर हाल ऐ दिल सुनाने की जरुरत क्या है.,

 

बेवफा तकदीर दर्दे जुदाई,
हर कदम पे रुलाती आई है,
अब तक सताया औरों ने,
अब बारी मेहबूबा तेरी आई है.,

 

ना कसूर तुम्हारा है न कसूर हमारा है,
मुकद्दर ही लिखा है अश्कों की रोशनाई से,
जुदा पहले भी हुए थे और आज भी,
मुकद्दर ही लिखा है महज बेवफाई से.,

 

जहर मोहब्बत का पी लिया,
अब गम जुदाई का उठा रहा हूँ मैं,
सहकर सितम तेरी बेवफाई का,
आज तेरी दुनिया से जा रहा हूँ मैं.,

 

हर महफ़िल से जो निकाला गया हो,
उससे पूछो रुस्वाई का दर्द,
ठोकर खा कर जो बैठा हो,
उससे पूछो इश्क में जुदाई का दर्द.,

 

Judai Ki Shayari Hindi Me

अगर आप Judai ki Shayari hindi me खोज रहे तो आप इस पोस्ट की सभी शायरी पढे क्योंकि इसमे हमने आपको judai shayari की सभी स्पेशल शायरी हिन्दी मे पेस की जिसे आप आसानी से पढ़ सकते है।

 

गम नहीं है मुझे तेरी जुदाई का,
अफसोस है तूने औरों का आशियाँ बसा दिया,
तूने पैसे को अहमियत दी वफा से ज्यादा,
पैसे के लिए ही तूने मेरा जहाँ ठुकरा दिया.,

 

इश्क का नाम जुदाई है,
गम ऐ जुदाई मिलती है प्यार करने के बाद,
नाम बदनाम होता है जमाने में,
सिर्फ रुस्वाई मिलती है प्यार करने के बाद.,

 

जुदाई की घड़ी में अगर कोई हसीना मिल जाए,
तो यूं समझना की सावन का महीना मिल जाए.,

जोहरी अपने आप को तुम उस वक्त समझना,
जब आपको गलियों में कोई नगीना मिल जाए.,

 

जब याद आती है तेरी बेवफाई हमें,
दिल खून के आंसू रोता है तन्हाई में,
जहर पीना पड़ता है जुदाई का,
तड़पना पड़ता है हमें जुदाई में.,

 

तुम क्या मुझे जुदा करोगे संगदिल,
तुमने कभी पास आने की इजाजत तो दी होती,
एहसास ऐ वफा या गम ऐ जुदाई,
महसूस तब होता जब तुमने मोहब्बत की होती.,

 

 

तुमने की बेवफाई जानेमन,
हमें इजाजत भी नहीं है गिला करने की,
तुम हो गयीं जुदा हमसे,
हमें इजाजत भी नहीं दर्दे जुदाई सहने की.,

 

जब मेरे शबाब में निखार आएगा,
तुम्हें एक नई गजल लिखने का बहाना मिल जाएगा,
जब होगी मेरी जुदाई सनम,
तुम्हें गम ऐ जुदाई में मरने का बहाना मिल जाएगा.,

 

चाहतों का खूब सिला दिया है,
तड़पना पड़ता है उसकी जुदाई के बाद,
हकीकत में हैं वो गैर के पहलु में,
तड़पना पड़ता है उसकी बेवफाई के बाद.,

 

इतना बेताब न हो मुझसे बिछड़ने के लिए,
तुझे आँखों से नहीं मेरे दिल से जुदा होना है.,

 

काश यह जालिम जुदाई न होती,
ऐ खुदा तूने यह चीज़ बनायी न होती,
न हम उनसे मिलते न प्यार होता,
अपनी ज़िन्दगी फिर परायी न होती.,

 

कह के आ गए उनसे कि जी लेंगे तुम्हारे बिन,
उनके जुदा होते ही जान पे बन आई है.,

 

जुदा हुए हैं बहुत से लोग एक तुम भी सही,
अब इतनी सी बात पे क्या ज़िन्दगी हैरान करें.,

 

उनकी तस्वीर को सीने से लगा लेते है,
इस तरह जुदाई का गम उठा लेते है,
किसी तरह जो ज़िक्र हो जाए उनका,
तो हँस कर भीगी पलकें झुका लेते है.,

 

हर मुलाक़ात का अंजाम जुदाई क्यों है,
अब तो हर वक़्त यही बात सताती है हमें.,

 

इश्क़ तो बस मुक़द्दर है कोई ख्वाब नहीं,
ये वो मंज़िल है जिस में सब कामयाब नहीं,
जिन्हें साथ मिला उन्हें उँगलियों पे गिन लो,
जिन्हें मिली जुदाई उनका कोई हिसाब नहीं.,

 

 

हमारा दिल किसी गहरी जुदाई के भँवर में है,
हमारी आँख भी नम है कभी मिलने चले आओ,
हवाओं और फूलों की नई खुशबू बताती है,
तुम्हारे आने का मौसम है कभी मिलने चले आओ.,

 

हमने प्यार नहीं, इश्क नहीं, इबादत की है,
रस्मों से रिवाजों से बगावत की है,
माँगा था जिसे हमने अपनी दुआओं में,
उसी ने मुझसे जुदा होने की चाहत की है.,

 

तू तो हँस-हँस कर जी रहा है जुदा होकर भी,
कैसे जी पाया होगा वो जिसकी जिंदगी है तू.,

 

गज़ल में गीत में दोहे में और रुबाई में,

कहां कहां नही ढूंढा तुझे जुदाई में.,

 

ना मेरी नीयत बुरी थी, ना उसमे कोई बुराई थी,

सब मुक़द्दर का खेल था बस किस्मत में जुदाई थी.,

 

उसको चाहा पर इज़हार करना नहीं आया,

कट गई उम्र हमें प्यार करना नहीं आया,

उसने कुछ माँगा भी तो मांगी जुदाई,

और हमें इंकार करना नहीं आया.,

 

जिंदगी में मोहब्बत की जुदाई होती है,

कभी कभी प्यार में बेवफाई होती है,

हमारी तरफ हाथ बढ़ा के तो देखो,

दोस्ती में कितनी सच्चाई होती है.,

 

काश यह जालिम जुदाई न होती,

ऐ खुदा तूने यह चीज़ बनायीं न होती,

न हम उनसे मिलते न प्यार होता,

ज़िन्दगी जो अपनी थी वो परायी न होती.,

 

लाएँगे कहाँ से हम, जुदाई का हौसला,

क्यों इस क़दर मेरे करीब आ रहें हैं आप.,

 

हर मुलाकात पर वक्तका तकाज़ा हुआ,

हर याद पे दिल का दर्द ताजा हुआ,

सुनी थी सिर्फ हमने गज़लों मे जुदाई की बातें,

अब खुद पे बीती तो हकीकत का अंदाजा हुआ.,

 

अंगड़ाई पे अँगड़ाई लेती है रात जुदाई की,

तुम क्या जानो,तुम क्या समझो. बात मेरी तन्हाई की.,

 

तेरी हर अदा मोहब्बत सी लगती है,
एक पल की जुदाई मुद्दत सी लगती है.,
पहले नही सोचा था अब सोचने लगे है,
हम जिंदगी के हर लम्हों में तेरी ज़रूरत सी  लगती है.,

 

दोस्तो की जुदाई का गम ना करना,
दुर रहो तो भी दोस्ती कम ना करना,
अगर मिले जिँन्दगी के किसी मोड पर हम,
तो हमे देख कर अपनी आँखे बन्द ना करना.,

 

Conclusion

यही सभी Judai Shayari आप सभी को काफी पसंद आई होंगी अगर नहीं तो आप हमे कमेन्ट मे बताए हम अपने अगले पोस्ट व  Hindi Shayari मे कुछ अच्छा सुधार करेंगे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.