Maafi Shayari – दोस्तों हम सब से कभी न कभी किसी भी समय कोई न कोई गलती हो ही जाती है अधिकार जब हमसे की गलती होती तो उसके बाद हमसे बहुत से लोग नाराज भी हो जाते क्योंकि नाराज होना इंसानों के स्वभाव मे ही होता लेकिन अगर उस समय अगर ही अपनी गलती के बाद भी अपने आप को सही साबित करे और सामने वाले को गलत तो सामने वाले के दिल पर एक ठेस पहुचती है।

क्योंकि पहले तो उसके कोई गलती नहीं की बाद मे आप खुद माफी मांगने के वजाय आप उसे खुद ही माफी मांगने को कहने लगते उस टाइम पर सामने वाला इंसान हमसे बहुत नाराज हो जाता और फिर हमसे बात करना भी बंद कर देता है। लेकिन कुछ टाइम के बाद जब आपको अपनी गलती का अहसास होता तो उस समय आप यही सोचते की हमने उसको फर्जी इतना कुछ बोल दिया बल्कि गलती तो हमारी थी हमे ही उससे माफी मांगना चहाइए।

लेकिन तब तक देर हो चुकी होती है आप सोचते की वह अब मुझे माफ नहीं करेंगे और इसी सोच के साथ आप उनसे माफी नहीं मांगते और फिर अपने अंदर आप इसी बाट को लेकर घुटने लगते है तो आज हम आपको यह स्पेशल Maafi Shayari पढ़ाने जा रहे जिसे आप खुद अपने मोबाईल के जरिए उन तक पहुचा सकते हो जो जिनसे आपको माफी मंगनी है जिसके बाद वह आपके इस Maafi Shayari को पढ़ कर आपकी उस गलती को भूल देंगे।

तो आइए पढिए हमारे साथ यह स्पेशल Maafi Shayari और फिर इन Mafi Shayari को शेयर भी करिए अपने उन दोस्तों व रिश्तेदारों के साथ जिनका अपने कभी गलती से दिल दुखया है क्योंकि माफी मांगने को से छोटा या बड़ा नहीं होता लेकिन माफी मांगने वाला और माफ करने वाला दोनों बहुत बड़े होते है तो आइए पढिए इन सब Maafi Shayari को शेयर करिए इनको अपने खास लोगों के साथ।

 

Maafi Mangne Ki Shayari

अब आपको हम यह Maafi Mangne Ki Shayari पढ़ाने जा रहे जो आपको बहुत अधिक पसंद आएगा साथ मे आपको यह Maafi Shayari की सभी स्पेशल शायरी इस पोस्ट मे पढ़ने को आसानी से मिल जाएगी। इसी के साथ हमने कुछ समय पहले Gussa Shayari पर भी पोस्ट लिखा था आपको उसे भी पढ़ना चाहिए और जो आपसे ज्यादा गुस्सा हो उनको भी शेयर करके पढ़ना चाहिए।

 

न तेरी शान कम होती न रुतबा ही घटा होता,
जो गुस्से में कहा तुमने वही हँस के कहा होता.,

 

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया.,

 

इस कदर हमसे रूठ ना जाइए,

माना ग़लती हुई है हमसे,

पर ऐसे खामोश ना हो जाइए,

जो दोगे सज़ा होगी कबूल हमे,

बस एक बार मुस्कुरा जाइए.,

 

आज मैंने खुद से एक वादा किया है,

माफ़ी मांगूंगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,

हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,

अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है.,

 

धड़कन बनके जो दिल में समा गए हैं,

हर एक पल उनकी याद में बिताते हैं,

आंसू निकल आये जब वो याद आ गए,

जान निकल जाती है जब वो रूठ जाते हैं.,

 

Maafi Shayari

 

सॉरी कहने का मतलब है,

की आपके लिए दिल मे प्यार है,

अब जल्दी से हमे माफ़ कर दो ऐ सनम,

सुना है आप बहुत समझदार हैं.,

 

कहा सुना जो भी हो माफ़ करना,

कुछ वादे किये ना निभाए हों तो माफ़ करना,

कुछ बातें जो हम दोनों के बिच हुई,

उन में कुछ भला बुरा हुवा हो तो माफ़ करना.,

 

तुझे मनाऊँ कि अपनी अना की बात सुनूँ,
उलझ रहा है मेरे फ़ैसलों का रेशम फिर.,

 

देखा है आज मुझे भी गुस्से की नज़र से,
मालूम नहीं आज वो किस-किस से लड़े है.,

 

हो गई हो भूल तो दिल से माफ कर देना,
सुना है सोने के बाद हर किसी की सुबह नही होती.,

 

ज़िंदगी सिर्फ चार दिन की दास्ताँ है,
कहीं रूठने मनाने मे न निकल जाये.,

 

धड़कन बनके जो दिल में समा गए हैं,
हर एक पल उनकी याद में बिताते हैं,
आंसू निकल आये जब वो याद आ गए,
जान निकल जाती है जब वो रूठ जाते हैं.,

 

बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से,
हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से,
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले,
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से.,

 

हो सकता है हमने आपको कभी रुला दिया,
आपने तो दुनिया के कहने पे हमें भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनिया में,
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया.,

 

नाराज क्यूँ होते हो किस बात पे हो रूठे,
अच्छा चलो ये माना तुम सच्चे हम ही झूठे,
कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते,
गुस्से का है बहाना दिल में हो हम पे मरते.,

 

Maafi Shayari

 

हम रूठे भी तो किसके भरोसे रूठें,
कौन है जो आयेगा हमें मनाने के लिए,
हो सकता है तरस आ भी जाये आपको,
पर दिल कहाँ से लायें आपसे रूठ जाने के लिये.,

 

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया.,

 

भूल उसीसे ही होती है जो कुछ करने की कोशिश करता है,
भूल को कबुल करना ही फूल है,
लेकिन भूल जाओ कि हमसे कोई भूल नहीं होगी,
और भूल होने पर सॉरी कहना मत भूलो,
वरना छोटी सी भूल भी महँगी पड़ सकती है.,

 

रिश्तों में दूरियां तो आती-जाती रहती हैं,
फिर भी दोस्ती दिलो को मिला देती है,
वो दोस्ती ही क्या जिसमे नाराजगी न हो,
पर सच्ची दोस्ती दोस्तों को मना ही लेती है.,

 

सॉरी कहने का मतलब है,
कि आपके लिए दिल में प्यार है,
अब जल्दी से हमे माफ़ कर दो ऐ सनम,
सुना है आप बहुत समझदार हैं.,

 

बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से,
हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से,
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले,
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से.,

 

आज मैंने खुद से एक वादा किया है,
माफ़ी मंगुगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है.,

 

तुम दुआ हो मेरी सदा के लिए,
मैं जिंदा हूँ तुम्हारी दुआ के लिए,
कर लेना लाख शिकवे हमसे,
मगर कभी खफा न होना खुदा के लिए.,

 

हर वक़्त तुमको याद करता हूँ,
हद से ज्यादा तुम्हे प्यार करता हूँ,
क्यों तुम मुझसे खफा बैठे हो,
मैं एक तुम्हीं पर तो मरता हूँ.,

 

वो मुझे चाहती है पर अपना नहीं सकती,
मुझे भुलाने का दर्द उठा नहीं सकती,
अजीब है उसके प्यार का ये अंदाज़ज,

 

Maafi Shayari

 

आंसू तक निकलते है जब वो याद आते है,
जान चाली जाती है जब वो हमसे रूठ जाते है.,

 

धड़कन बनके जो दिल में समा जाते है,
हर एक पल जिनकी याद में बिताते है.,

 

फिर न करेगे नाराज़ आपको,
अब तो थोड़ा मुस्कुरा दो ज़रा.,

 

पर मान जाना हमारे मानाने से,
वरना हमारी भीगी आँखें लेके हम कहा जायेंगे.,

 

रूठ कर कुछ और भी हसीन लगते हो,
बस यही सोच कर तुम को ख़फ़ा रखा है.,

 

Mafi Shayari 2 Line

दोस्तों आज हम आपको यह माफी की शायरी की स्पेशल Mafi Shayari 2 Line वाली पढ़ाने जा रहे जो आपको बहुत अधिक पसंद आएगी आप इन शायरी को एक बार जरूर पढे।

 

तुझे मनौ की अपनी आना की बात सुनूँ,
उलझ रहा है मेरे फैसलों का रेशम फिर.,

 

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज हैं किस लिए बता जरा,
हमने तुझे कभी खफा तो नहीं किया.,

 

चुप रहते हैं हम कि कोई खफा ना हो जाये,
हमसे कोई रुसवा ना हो जाये,
बड़ी मुश्किल से कोई अपना बना हैं,
डर लगता हैं कोही वो भी जुदा ना हो जाये,
अगर मैने कुछ गलती की है तो माफ कर दो.,

 

दूसरों को इतनी जल्दी माफ कर दिया करो,
जितनी जल्दी आप उपरवाले से अपने लिए माफी,
की उम्मीद रखते हैं.,

 

पलभर में टुट जाए वो कसम नहीं,
तुम्हें भूल जाए वो हम नहीं,
तुम रुठी रहो इस बात में दम नहीं,
तुम मनाने से ना मानो इतने बुरे हम भी नहीं.,

 

Maafi Shayari

 

धड़कन बन कर जो दिल में समा गए हैं,
हर एक पल उनकी याद में बिताते हैं,
आंसू निकल आए जब वो याद आ गए,
जान निकल जाती हैं जब वो रुठ जाते हैं.,

 

बहुत उदास हैं कोई शख्स तेरे जाने से,
हो सके तो लैट के आजा किसी बहाने से,
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले,
कोई बिखर गया है तेरे रुठ जाने से.,

 

मेरे ख्वाबो मे वो तीर चला कर चली गई,
मैं सोया था मुझ को जगा कर चली गई,
मैने पूछा चाँद कैसे निकलता है,
वो अपने चेहरे से जुल्फे हटा कर चली गई.,

 

नाराज क्यों होते हो किस बात पे रुठें हो,
अच्छा चलो हम माना तुम सच्चे और हम झूठे हैं,
कब तक झुपाओगे तुम हमसे प्यार करते हो,
गुस्से का हैं बहाना दिल से तो हम पे मरते हो.,

 

हो सकता है हमने आपको कभी रुला दिया,
आपने तो दुनियां के कहने पे हमे भुला दिया,
हम तो वैसे भी अकेले थे इस दुनियां में,
क्या हुआ अगर आपने एहसास दिला दिया.,

 

दुश्मनों में भी दोस्त मिला करते हैं,
जन्नत में भी फूल खिला करते हैं,
हमको काटा समझ कर छोर मत देना,
काटा ही फूल का हिफाजत किया करते हैं.,

 

तु- हँसते हो मुझे हंसाने के लिए,
तुम-रोते हो तो मुझे रुलाने के लिए,
तुम एक बार रुठ कर तो देखो,
मर जाएंगे तुम्हें मनाने के लिए,

 

दिल से तेरी याद को जुदा तो नहीं किया,
रखा जो तुझे याद कुछ बुरा तो नहीं किया,
हम से तू नाराज़ हैं किस लिये बता जरा,
हमने कभी तुझे खफा तो नहीं किया.,

 

भूल से भूल को भुला दो जरा,
आशिक आपके है गले से लगा लो जरा,
फिर ना करेंगे नराज़ आपको,
अब तो थोडा मुस्कुरा दो जरा.,

 

आज एक वादा करते हैं तुमसे,
मेरे लिए अब कोई नहीं ज्यादा है तुमसे,
माफ़ कर दो जो रुसवा किया तुमको,
गलती हमारी थी जो खुद से जुदा किया तुमको.,

 

Maafi Shayari

 

आज मैंने खुद से एक वादा किया है,
माफ़ी मागूंगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है.,

 

तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,
तुम्हारे बिना चिरागों में रौशनी न रहेगी,
क्या कहें क्या गुजरेगी दिल पर ऐ दोस्त,
जिंदा तो रहेंगे लेकिन ज़िंदगी न रहेगी.,

 

दर्द गैरों को सुनाने की ज़रूरत क्या है,
अपने साथ औरों को रुलाने की ज़रूरत क्या है,
वक्त यूँही कम है मोहब्बत के लिए,
रूठकर वक्त गंवाने की ज़रूरत क्या है.,

 

मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ हो जाती हैं,

जब वो मुस्कुरा के पूछती है नाराज हो क्या.,

 

मैं नादानी में कुछ गलत कर जाऊँ,

तो मुहब्बत समझ कर माँफ कर देना.,

 

खता की थी इश्क़ की कहाँ मिलती माफ़ी है,

ना पूछो हाल-ए-दिल ज़िंदा हूँ बस यही काफी है.,

 

अगर मोहब्बत में किये गुनाहों की कभी सज़ा सुनाई जाए,

तो  मेरे हमसफ़र की सज़ा माफ हो अल्लाह खैर करे.,

 

कब दोगे निजात हमें रात भर की तन्हाई से,

ए इश्क माफ़ कर मेरी उम्र ही क्या है.,

 

जरा-सी बात नहीं है कि भूल जाऊँ उसे,

हुआ है इश्क़ कबीरा खुदा माफ करें.,

 

हो गई हो कोई भूल तो माफ़ कर देना दोस्तों,

सुना है सोने के बाद हर किसी की सुबह नहीं होती है.,

 

Maafi Shayari

 

खता की थी इश्क़ की कहाँ मिलती माफ़ी है,

ना पूछो हाल-ए-दिल ज़िंदा हूँ बस यही काफी है.,

 

सोचते है सीख ले हम भी बेरुखी करना सब से ,

सब को महोब्बत देते देते हमने अपनी क़दर खो दी है.,

 

सनम की खातिर हार जानी पड़ती है जान भी,

कह देने भर से किस्से कभी मोहब्बत नहीं होती.,

 

इश्क़ तो हर महीने बरक़रार रहता है,

फिर इस फरवरी को इतना गुमान क्यों.,

 

मोहब्बत में बेवफ़ाई की माफी नहीं होती,

बेवफ़ाई जितनी सजा दे काफी नहीं होती.,

 

Mafi Shayari in Hindi

दोस्तों अब आइए आपको हम यह स्पेशल Maafi Shayari की कुछ अच्छी Mafi Shayari in Hindi मे पढ़ाने जा रहे जिसे आप पहले तो पढे फिर आप इसे अपने दोस्तों मे शेयर भी कर दे।

 

मोहब्बत भी क्या चीज बनाई तूने ए खुदा,

तेरे ही बंदे तेरी ही मस्जिद में रोते है किसी और के लिए.,

 

अच्छा सुनो चाँद तो तोड़ा ना जायेगा मुझसे,

मैं तुम्हारे लिये पायल लाऊँगा चाहिये तो बाताना.,

 

ज़िन्दगी में याद हमारी बहूत आएगी,

प्यारे सफर की हर ख़ुशी रुक जाएगी,

अगर तलाश करोगे हमसे अच्छा कोई दोस्त,

तो निगाहे दूर तक जाएगी फिर लौट आएगी.,

 

यादे होती है सताने के लिए,

कोई रूठता है फिर मान जाने के लिए,

रिश्ते बनाना कोई मुश्किल बात नहीं,

जान तक चली जाती है रिश्ते निभाने के लिए.,

 

 

दूरियों से फर्क नहीं पड़ता बात तो,

दिलो की नजदीकियों से होती है,

दोस्ती तो कुछ आप जैसो से है वरना,

मुलाकात तो जाने कितनो से होती है.,

 

माना की भूल हो गई हमसे सनम,

पर इस तरह ना रूठो हमसे सनम,

एक बार नजरे उठा के देखो हमे.,

फिर दुबारा ना करेंगे ये खता ऐ सनम.,

 

इस कदर मेरी दोस्ती का इम्तिहान मत लीजिए,

खफा हो क्यों ये तो बता दीजिए,

माफ कर दो अगर हो गई कोई गलती,

ऐसे रूठ करके हमे सजा मत जिजिए.,

 

दोस्तों में दूरियां तो आती रहती है,

फिर भी दोस्ती दिलो को मिलाती रहती है,

वो दोस्ती ही क्या जो नाराज़ ना हो पर,

सच्ची दोस्ती दोस्तों को मना लेती है.,

 

भूल से कोई भूल हुई तो भूल समझ कर भूल जाना,

अरे भूलना सिर्फ भूल को भूल से हमे न भूल जाना.,

 

बहुत उदास है कोई तेरे जाने से,

हो सके तो लौट आ किसी  बहाने से,

तू लाख खफा सही मगर एक बार तो देख,

कोई टूट सा गया है तेरे दूर जाने से.,

 

खता हो गयी तो फिर सज़ा सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यूँ है वजह बता दो,
देर हो गयी याद करने में जरूर,
लेकिन तुमको भुला देंगे ये ख्याल दिल से मिटा दो.,

 

आज मैंने खुद से एक वादा किया है,
माफ़ी मांगूंगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है.,

 

हमसे कोई खता हो जाये तो माफ़ करना,
हम याद न कर पाएं तो माफ़ करना,
दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं,
पर ये दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना.,

 

 

फूल कभी दो बार नहीं खिलते,
जन्म कभी दो बार नहीं मिलते,
मिलने को तो हज़ारों लोग मिल जाते है,
पर हज़ारो गलतियां माफ करने वाले,
मॉ बाप नहीं मिलते.,

 

आज मैंने खुद से एक वादा किया है,
माफ़ी मांगूंगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है.,

 

तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,
तुम्हारे बिना चिरागों में रौशनी न रहेगी,
क्या कहें क्या गुजरेगी दिल पर ऐ दोस्त,
जिंदा तो रहेंगे लेकिन ज़िंदगी न रहेगी.,

 

खफा होने से पहले खता बता देना,
रुलाने से पहले हँसना सिखा देना,
अगर जाना हो कभी हम से दूर आप को,
तो पहले बिना सांस लिए जीना सिखा देना.,

 

हमसे कोई खता हो जाये तो माफ़ करना,
हम याद न कर पाएं तो माफ़ करना,
दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं,
पर ये दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना.,

 

Maafi Ki Shayari

चलिए आखिर मे थोड़ा आपको यह Maafi Shayari की स्पेशल Maafi ki Shayari पढ़ा रहे जिसे आप पढे और फिर इसे आप शेयर भी करे ताकि अपने जिनके भी दिल दुखाए वह इन Maafi Shayari को पढ़ कर आपके सभी बुरे ख्यालों को भुला सके और जो आपके ज्यादा नाराज हो उनके लिए हमारी यह Naraz Shayari भी आपको हमारे वेबसाईट पर मिल जाएगी जिसे भेज कर आप उने यह पढ़ा सकते है।

 

तुम हँसते हो मुझे हँसाने के लिए,
तुम रोते हो तो मुझे रुलाने के लिए,
एक बार रूठ कर तो देखो,
मर जायेंगे तुम्हें मनाने के लिए.,

 

तुम खफा हो गए तो कोई ख़ुशी न रहेगी,
तुम्हारे बिना चिरागों में रोशनी न रहेगी,
क्या कहे क्या गुजरेगी इस दिल पर,
जिंदा तो रहेंगे पर ज़िन्दगी न रहेगी.,

 

नाराज क्यूँ होते हो किस बात पे हो रूठे,
अच्छा चलो ये माना तुम सच्चे हम ही झूठे,
कब तक छुपाओगे तुम हमसे हो प्यार करते,
गुस्से का है बहाना दिल में हो हम पे मरते.,

 

हमसे कोई खता हो जाये तो माफ़ करना,
हम याद न कर पाएं तो माफ़ करना,
दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं,
पर ये दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना.,

 

खता हो गई हो तो सजा भी सुना दो,
दिल में इतना दर्द क्यू है वजह भी बता दो,
देर हो गई याद करने में ज़रूर लेकिन,
तुमको भुला देंगे ये ख्याल दिल से निकाल दो.,

 

होंटों से दुआ के लिए जसने नहीं होती,
अब इससे जायदा तेरी खुवासिश नहीं होती,
है प्यार का सहेर यहाँ बदल नहीं आती,
अगर बदल भी आ जाये तो बारिश नहीं होती.,

 

 

बहुत उदास है कोई शख्स तेरे जाने से,
हो सके तो लौट के आजा किसी बहाने से,
तू लाख खफा हो पर एक बार तो देख ले,
कोई बिखर गया है तेरे रूठ जाने से.,

 

आसमान से तोड़ कर सितारा दिया है,
आलम-ए-तन्हाई में एक शरारा दिया है,
मेरी किस्मत भी नाज़ करती है मुझपे,
खुदा ने दोस्त ही इतना प्यारा दिया है.,

 

सॉरी कहने का मतलब है,
कि आपके लिए दिल में प्यार है,
अब जल्दी से हमे माफ़ कर दो ऐ सनम,
सुना है आप बहुत समझदार हैं.,

 

आज मैंने खुद से एक वादा किया है,
माफ़ी मंगुगा तुझसे तुझे रुसवा किया है,
हर मोड़ पर रहूँगा मैं तेरे साथ साथ,
अनजाने में मैंने तुझको बहुत दर्द दिया है.,

 

हर वक़्त तुमको याद करता हूँ,
हद से ज्यादा तुम्हे प्यार करता हूँ,
क्यों तुम मुझसे खफा बैठे हो,
मैं एक तुम्हीं पर तो मरता हूँ.,

 

Conclusion

यही सभी Maafi Shayari आप सभी को काफी पसंद आई होंगी अगर नहीं तो आप हमे कमेन्ट मे बताए हम अपने अगले पोस्ट व  Hindi Shayari मे कुछ अच्छा सुधार करेंगे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.