Matlabi Shayari – दोस्तों आज के समय मे आपको हर तरफ आपकी फ्री की दावत उड़ाने वाले बहुत लोग मिल जाएंगे लेकिन कही भी आपको आपकी मदद के लिए कोई नहीं मिलेगा क्योंकि आज के समय के लोग अपने आप मे मतलबी होती उनको केवल बस इस बाट से मतलब होता की किसी को कितना लूटा जा सकता है।

आप कही और नहीं बल्कि अपने दोस्तों मे ही देखिए जब आप किसी तरह की कोई दावत का आयोजन करते तो उसमे बिना बुलाए भी बहुत लोग अ जाते लेकिन जब आप किसी तरह के काम के कोई मदद मांगते तो उस समय आपके लाख बुलाने पर भी कोई दोस्त नहीं आते क्योंकि वह सब मतलबी होते इस लिए आज हम आपको कुछ Matlabi Shayari पढ़ाने जा रहे जो आपको बहुत पसंद आएगी।

आप सभी इन Matlabi Shayari को अपने उन सभी दोस्तों को शेयर करिए जो आपके लाख बुलाने पर भी कोई न कोई नाटक बता के आपको भ्रम मे रखते ताकि उन सभी लोगों को यह Matlabi log ki Shayari पढ़ के समझ आए की उनका वो नाटक आपको भी समझ मे अ रहा इस लिए आप इन सभी Selfish Shayari को पढिए और शेयर करिए।

 

Matlab ki Duniya Shayari in Hindi

अब आइए आपको हम यह सभी Matlab ki Duniya Shayari in Hindi पढ़ाने जा रहे जो आपको बहुत ज्यादा पसंद आएगी और आप इन सभी Matlab ki Duniya Shayari को अपने उन सभी दोस्तों को भी शेयर करे जिन्होंने आपको आपके काम के समय धोका दिया है।

 

जो सच और कड़वा बोलता है,
वो मतलबी और धोखेबाज नहीं होता है.,

 

मेरे बुरे वक्त में मेरी कमियाँ गिनाने लगे है,
मतलबी दोस्त, दोस्ती का मतलब समझाने लगे है.,

 

ऐसे दोस्तों से दोस्ती रखिये जो आपकी परवाह करते हैं,
मतलबी और इस्तेमाल करने वाले तो आपको ढूँढ ही लेंगे.,

 

बुरा भले लगे पर मैं सच कहता हूँ,
अब मतलबी दोस्तों से दूर रहता हूँ.,

 

अच्छे दोस्त आँखों में खटकने लगते है,
जब मतलबी लोग दोस्त बनने लगते है.,

 

Matlabi Shayari

 

अब लोग वक्त के साथ बदल जाते हैं,
सच्चे दोस्त भी अब मतलबी हो जाते हैं.,

 

कुछ की फितरत और कुछ की मजबूरी होती है,
कुछ भी हो मतलबी होना ही गलत होता है.,

 

बरें दोस्त कोयले की तरह होते है.
जब कोयला गर्म होता है तो हाथ जलाता है.
और जब ठंडा होता है तो हाथ काला कर देता है.,

 

अच्छे दोस्त कभी मतलबी नहीं होता हैं,
मतलबी लोग कभी अच्छे दोस्त नहीं होते हैं.,

 

सच्चे लोग दिल में उतनी जगह नहीं बना पाते हैं,
जितनी जगह मतलबी और चापलूस लोग बना लेते हैं.,

 

Facebook Shayari

 

इस दौर में लोग हजारों दर्द दिल में छुपा के रखते है,
क्योंकि कोई हमदर्द नहीं मिलता है सुनाने के लिए.,

 

जिन्दगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रखों,
मतलबी दोस्तों को नजरअंदाज रखों.,

 

कैसे भरोसा करू गैरों के प्यार पर,
यहाँ अपने ही मजा लेते हैं अपनों की हार पर.,

 

अच्छे दोस्त वो होते हैं जो आपकी मदद लेने,
के बाद आपको शुक्रिया कहने ज़रूर आते हैं,
और मतलबी दोस्त वो होते हैं जो मतलब पूरा,
होने के बाद फिर कभी नज़र नहीं आते हैं.,

 

सच्चे दोस्तों की एक निशानी होती है,
वो मिलने के लिए वक़्त और मतलब नहीं ढूंढते.,

 

Matlabi Shayari

 

चेहरे दो थे मेरे उस दोस्त के पास,
एक मतलब से पहले देखा था और,
एक मतलब पूरा होने के बाद देखा है.,

 

मैं सूरज के साथ रहकर भी भूला नहीं अदब,
लोग जुगनू का साथ पाकर मगरूर हो गये.,

 

मैं सूरज के साथ रहकर भी भूला नहीं अदब,
लोग जुगनू का साथ पाकर मगरूर हो गये.,

 

किसी ने जब पूछा मुझसे,
कि दोस्ती कब तक चलती है,
तो मैंने भी कह दिया कि बस,
मतलब तक चलती है.,

 

इतनी नफरत तो मेरे दुश्मन भी मेरे लिए नहीं रखते है,
जितनी मेरे दोस्त दिलों में नफरत लिए सादगी से मिलते हैं.,

 

Sharab Shayari 

 

बुरा भले लगे पर मैं सच कहता हूँ,
अब मतलबी दोस्तों से दूर रहता हूँ.,

 

तेरी दोस्ती ने दिए सुकून इतना,
कि तेरे बाद कोई भी अच्छा न लगे.,

तुझे करनी हो बेवफाई तू इस अदा से करना,
कि तेरे बाद कोई भी बेवफा न लगे.,

 

दोस्ती तो सब करते है लेकिन कोई दिल,
से निभाता है तो कोई दिमाग से खेलता है.,

 

मतलबी दोस्त की एक पहचान,
होती है वह आपसे मतलब आने,
से पहले नहीं मिलेगा और ना ही,
मतलब पूरा होने के बाद मिलेगा.,

 

शायरी करने के लिये कुछ खास नहीं चाहिये,
बस एक यार चाहिये वो भी मतलबी चाहिये.,

 

Matlabi Shayari

 

जब आपके दोस्त ही शामिल हो,
आपके दुश्मनों की चाल में,
तो एक शेर भी फंस सकता है,
मकड़ियों की जाल में.,

 

हमें जरुरत नहीं है किसी को बेनकाब करने की,
वक़्त आने पर धोखेबाज़ खुद ही बेनकाब हो जाते है.,

 

लोग ख़ुद पर विश्वास खोने लगे है,

अब तो दोस्त भी मतलबी होने लगे है.,

 

ये दिन है के यारों का भी भरोसा नहीं वो,

दिन थे के जब दुसमन से भी नफरत ना थी.,

 

आज जाने क्या बात हो गई,
सुबह ही रात हो गई,
क्यों रूठ गई अचानक मुझसे,
क्या फिर किसी से मुलाकात हो गई.,

 

Matlabi Shayari in Hindi

अब आइए आपको हम यह Matlabi Shayari in Hindi पढ़ाने जा रहे क्योंकि आज के समय मे लोग बहुत मतलबी होते जा रहे और उन मतलबी लोगों को किस तरह से ट्रीट करना ये हमे केवल Matlabi Shayari ही सिख सकती है।

 

सच्चा दोस्त उसे कहते हैं जो किसी की नजरों में ना गिरने दे,
ना किसी के कदमों में गिरने दे,
और ना किसी के नजरों में गिरने दे.,

 

दिन और रात का फासला हूं मैं,
जाने कब से खुद से नहीं मिला हूं मैं,
खुद शामिल नहीं किसी सफर में,
पर लोग कहते हैं काफिला हूं मैं.,

 

जमा करते रहे जो अपने को ज़र्रा ज़र्रा,
वह क्या जाने बिछड़ने का सुकुं कितना है.,

 

अपना भी काम पड़ सकता है,
आधे रिश्ते तो इसी वजह से चल रहे हैं.,

 

बहोत दिनों से कोई जख्म नहीं मिला,
थोड़ा पता लगाओ ये अपने है कहां.,

 

Matlabi Shayari

 

ओ अच्छा था जब सहता रहा,
बदतमीज हो गया जब बोल पड़ा.,

 

काम आए ना मुश्किल में कोई यहां,
मतलबी दोस्त हैं मतलबी यार हैं.,

 

ये इश्क साला सबसे बड़ा गुंडा निकला,
ऐसा कोई बचा ही नहीं जिसको रुलाया ना हो.,

 

अकेले जीना आ जाता है दोस्त,
जब पता होता है अब कोइ साथ चलने वाला नही.,

 

लोग बड़े भुलक्कड़ हैं साहब,
उतना ही याद रखते हैं,
जितने से उनका स्वार्थ पूरा हो जाए.,

 

काम फसा तो यारी है,
वरना मतलब कि दुनियादारी है.,

 

देकर कुर्बानी अपने चाहत कि जानम,
हम अपनी नजरों में महान हो गए.,

इस्क दिखता है अब किताबो में जानम,
ना जाने क्यों मतलबी इंसान हो गए.,

 

जिस चांद के हजारों चाहने वाले हो,
वो क्या समझेगा एक सितारे कि कमी को.,

 

सारे जमाने से बिगड़ी,
तब जाके तुझे अपना बनाया था,
आखिरी सांस तक याद रहेगा,
कि किसी से दिल लगाया था.,

 

ढूढना ही है तो परवाह करने वालों को ढॅूढ़ीये साहेब,
इस्तेमाल करने वाले तो ख़द ही आपको ढॅूढ़ लेंगे.,

 

Matlabi Shayari

 

जरूर एक दिन वो शख्स तड़पेगा हमारे लिए,
अभी तो खुशियाँ बहोत मिल रही है उसे मतलबी लोगो से.,

 

वाकिफ हैं हम दुनिया के रिवाजो से,
मतलब निकल जाये तो हर कोई भुला देता हैं.,

 

कुछ यूँ हुआ कि.जब भी जरुरत पड़ी मुझे,
हर शख्स इतेफाक से.मजबूर हो गया.,

 

मुझको छोड़ने की वज़ह तो बतादे,
मुझसे नाराज़ थे या मुझ जैसे हजारो थे.,

 

चिठ्ठी ना कोइ संदेस जाने वो कौन सा देस जहां तुम चले गए हो,
इस दिल पे लगा के ठेंस जाने वो कौन सा देस जहां तुम चले गए हो.,

 

शायर बनने के लिए कुछ खास नहीं चाहिए,

बस एक यार चाहिए वो भी मतलबी.,

 

जैसे तुमने भुलाया मुझे, मै भी तुझे भुला दूंगा,

हम इस खेल के पक्के खिलाड़ी नहीं है,

हमें मतलबी होने मै थोड़ा वक्त लगेगा.,

 

इस मतलबी दुनिया में कोई साथ नहीं देता,

हर कोई ठुकरा जाता है,

पहले तो कहते हैं हम तुम्हारे ही है,

मतलब निकाल बेवफा हो जाता है.,

 

मतलब का रिश्ता था मतलब निकला तो टूट गया,

हम वफादार रहे, उसने बेवफाई की तो साथ छुट गया.,

 

मेरे दिल के दरवाजे को खटखटाया था,

उसने मेरे सीने में अपना घर बनाया था,

जाने का रास्ता था दिल में बाहर आने का नहीं,

इस लिए वो दिल तोड़ कर बाहर आया था.,

 

 

Matlabi Shayari

 

बेमतलब के उसको दिल में बसाया था,

हमने उसे बिना किसी मतलब चाहा था,

उसने हमारे इश्क़ का फायदा उठाया था,

हमें बर्बाद कर किसी और को अपना बनाया था.,

 

मेरे दिल के अंदर गेहराई में उतर गया,

वो मेरी साँसों और परछाई में उतर गया,

जिसने किये थे कभी ना छोड़ने के वादे,

मुझसे अच्छा मिला उसे तो वो मुक्कर गया.,

 

दिल के अंदर उसने आग लगाई थी,

वो दिन रात हमारे ख्यालों में आई थी,

उसका हल्के से मुस्कराना हमारी जान ले गया,

उसने हमें बर्बाद करने की तरकीब बनाई थी.,

 

मेरे सीने में धड़कता दिल टूट चुका था,

जिसके लिए धड़कता था उसका साथ छूट चुका था,

जिसने हमें इश्क़ का मतलब सिखाया था,

उसने छोड़ हमें धोखा क्या होता है बताया था.,

 

मै उसे कहता था कि तुम मेरी दुनिया हो,

दुनिया मतलबी होती है वो बताती थी,

जब छोड़ दिया उसने तो एहसास हुआ,

वो अपने बेवफा होने के बारे में बताती थी.,

 

Matlabi Log Shayari in Hindi

अब आइए आपको हम यह Matlabi Log Shayari in Hindi पढ़ाने जा रहे क्योंकि मतलबी लोगों को किस तरह से हम ट्रीट करेंगे वो तो पहले सिख लिया अब इन सभी मतलबी लोग को सबक सिखाने के लिए यह Matlabi Shayari ही काम आएगी।

 

मतलब की दुनिया में जिया नहीं जाता,

बेवफाओं से इश्क़ अब किया नहीं जाता,

शराब पी पी कर बहुत जी लिया,

अब यह ज़हर के सहारे जिया नहीं जाता.,

 

मतलब की दुनिया में हमें रहना नहीं आता,

मत लब के लिए किसी के दिल से खेलना नही आता.,

 

मतलब की दुनिया में थोड़ा तेज़ हो जाओ,

शरीफ लोगों का अक्सर लोग फायदा उठा लेते हैं.,

 

कभी अकेले बैठ कर दिमाग चलाना,

बिना मतलब के कौन है तुम्हारा अपना,

पता चलेगा यहाँ सब मतलबी हैं.,

 

कांटो पर भी दोष कैसे डाले जनाब,

पैर तो हमने ही रखा था वो तो अपनी जगह थे.,

 

Matlabi Shayari

 

वो धीरे धीरे मुझे एहसास दिलाने लगा था,

जब वो मुझे छोड़ कर जाने लगा था,

जिस दिन निकल गया उसका मतलब हमसे,

उस दिन से वो हमें भुलाने लगा था.,

 

वो किसी और के दीवाने होने लगे थे,

उसके लिए हम बेगाने होने लगे थे,

जब वो छोड़ना चाहते थे हमें तो,

दूर जाने के रोज़ नए बहाने होने लगे थे.,

 

हमारे दिल के दरवाजे हमेशा खुले रहेंगे,

जब चाहो तुम लौट कर चले आना,

आज मतलब निकाल छोड़ रहे हो तुम,

जब मतलब हो फिर से लौट आना.,

 

ढूॅढना ही है तो परवाह करने वालों को ढॅूढ़ीये साहेब,
इस्तेमाल करने वाले तो ख़द ही आपको ढॅूढ़ लेंगे.,

 

मसला यह भी है इस ज़ालिम दुनिया का,
कोई अगर अच्छा भी है तो वो अच्छा क्यॅ है.,

 

इंसान की अच्छाई पर सब खामोश रहते हैं,
चर्चा अगर उसकी बुराई पर हो,
तो गूॅगे भी बोल पङते हैं.,

 

सबके दिलों में धङकना ज़रूरी नहीं होता साहब,
कुछ लोगों की अखों में खटकने का भी एक अलग मज़ा हैं.,

 

बुरे वक्त में मेरी जुबां पर दोस्तों का ही नाम आया,
पर मेरे बुरे वक्त में मेरा कोई दोस्त न काम आया.,

 

बुरा भले लगे पर मैं सच कहता हूँ,
अब मतलबी दोस्तों से दूर रहता हूँ.,

 

जिस पर भरोसा होता है जब वहीं धोखा देता है,
तो पूरी दुनिया मतलबी लगने लगती है.,

 

 

सच्चे दोस्तों की एक निशानी होती है,
वो मिलने के लिए वक़्त और मतलब नहीं ढूंढते.,

 

कुछ की फितरत और कुछ की मजबूरी होती है,
कुछ भी हो मतलबी होना ही गलत होता है.,

 

सुनो कितना अच्छा होता जो तुम मतलबी होते,
और तुम्हें सिर्फ मुझसे ही मतलब होता.,

 

मेरी दोस्ती का उन्होंने मुझे अच्छा सिला दिया,
मेरे बुरे वक्त में हर किसी ने मुझे भुला दिया.,

 

जहाँ कोई खास होता हैं वही विश्वास होता हैं,
और जहाँ विश्वास होता हैं वहीं विश्वासघात होता हैं.,

 

Selfish Shayari in Hindi

अब आपको हम इन सभी Matlabi Shayari के साथ – साथ यह Selfish Shayari in Hindi भी पढ़ाएंगे ताकि आप इन सभी Selfish Shayari को ध्यान से पढे और लोगोंके इरादों को समझ सके।

 

मुझे ये जानकार बहुत ख़ुशी हुई कि,
तुम बहुत मजे कर रहे हो वो भी मेरे बिना.,

 

वह सारी दुनिया की खबर रखते हैं,
बस एक मुझसे ही बेखबर रहते हैं.,

 

दोस्ती के अब मतलब बदलने लगे है,
जब से मतलब की दोस्ती होने लगी है.,

 

मैं धोखेबाज नहीं जो साथ रहने वालो को दे दूं,
बस बात ये है कि मुझे समझना हर किसी की बात नही.,

 

मेरे कम दोस्त होने की वजह ये भी है कि,
मुझे मतलबी दोस्तों से नाता तोड़ने में वक़्त नहीं लगता.,

 

किसी ने जब पूछा मुझसे कि दोस्ती कब तक चलती है,
तो मैंने भी कह दिया कि बस मतलब तक चलती है.,

 

 

जब मतलबी दोस्त दिल में उतर जाते है,
तो कई सपने टूट कर बिखर जाते है.,

 

अब लोग वक्त के साथ बदल जाते हैं,
सच्चे दोस्त भी अब मतलबी हो जाते हैं.,

 

मैं सूरज के साथ रहकर भी भूला नहीं अदब,
लोग जुगनू का साथ पाकर मगरूर हो गये.,

 

ऐसे दोस्तों से दोस्ती रखिये जो आपकी परवाह करते हैं,
मतलबी और इस्तेमाल करने वाले तो आपको ढूँढ ही लेंगे.,

 

तुम जाते जाते इस प्यार को भी मतलबी बना गये,
और हम मरते मरते भी इस मतलबी को प्यार कर गये.,

 

हम प्यार मैं तेरे अंधे हो गये इतना की,
जब जरूरत पड़ी तुम्हारे सहारे की,
तो तुम उस लाठी को ही तोड़ गये.,

 

दिल टूट जाये तो भी मुस्कराना पड़ता है,
मतलबी से भरे है यहां कुछ लोग,
अपना दर्द उन लोगो के सामने,
छुपाना ही पड़ता है.,

 

मेरे प्यार की कीमत उसने लगा दी,
उस बाजार मैं,
जहा कुछ अमीर लोग घुमा करते थे.,

 

मैं उस गली मैं दिल लगा बैठा,
जिस गली की दीवारों पर,
बस मतलबी लोगो के चेहरे बने हुए थे.,

 

उन्हें बेवफा जो बोलों तो तौहीन है वफ़ा कि,

वो तो निभा रहे है कभी उधर कभी इधर.,

 

इस से तो ख़ामोशी बहेतर है के किसी को दिल की बात कह कर,

फिर इस से कहा जाये के किसी से न कहना.,

 

काटों में रह कर भी हम ज़िन्दगी जी लेते,

है हर ज़क्म को अपने हाटों से सी लेते है,

जिस दोस्त को केह दिया दोस्त का हाथ,

हम ऊस हाथ से ज़हर भी पि लेते है.,

 

मगरूर हम भी है गजब के लेकिन,

तेरे गुरुर का बस ज़रा सी अह्तेराम करते है.,

 

आईने भी तुम्हे तुम्हारी खबर ना दे सकेंगे,

आओ देखों मेरी निगाहूँ में कितने हसीन हो तुम.,

 

मतलब ख़तम राब्ता ख़तम,
यह है दुनियां का रसम.,

 

इस मतलब की दुनिया में कौन किसी का होता है,
वही दोस्त धोखा देते हैं जिनपर भरोसा ज़यादह होता है.,

 

करीब रहो तो इतना कि रिश्तो में प्यार रहे,
दुर भी रहो इतना कि आने का इंतजार रहे,
रखो उम्मीद रिश्तो कि दरमिया इतनी,
कि टूट जाए उम्मीद पर रिश्ते बरक़रार रहे.,

 

 

जब रिश्ता नया होता हैं तो,
लोग बात करने का बहाना ढुढते हैं,
और जब उही रिश्ता पुराना हो जाता हैं,
तो लोग दुर होने का बहाना ढुढते हैं.,

 

कैसे करू भरोसा गैरो के प्यार पर,
अपने ही मजा लेते हैं अपने कि हार पर.,

 

आज गुमनाम हूँ तो जरा फासला रख मुझसे,
कल फिर मसहूर हो जाऊ तो कोई रिश्ता निकाल लेना.,

 

दुनिया को देख कर अब हम भी मिज़ाज बदले गे ,
रिश्ता सब से होगा लेकिन वास्ता किसी से नहीं.,

 

कुछ यूँ हुआ कि जब भी जरुरत पड़ी,
हर शख्स इतेफाक से मजबूर हो गया.,

 

कोई कहता हैं दुनिया प्यार से चलती है,
कोई-कहता हैं दुनिया दोस्ती से चलती है,
लेकिन जब अजमाया तो पता,
दुनिया तो बस मतलब से चलती है.,

 

मैं भी झूठा तू भी झूठा झूठी है दुनिया सारी,
झूठे है लोग सभी झूठे है नर नारी,
झूठ ही सब का दाता सबका झूठ ही पालन हार हैं,
ऐसा कलयुग आया देखो झूठ हुआ सच पर भारी है.,

 

मुझको क्या हक मैं किसी को मतलबी कहूँ,
मैं खुद ही खुदा को मुसीबत में याद करता हूँ.,

 

झूठी दुनिया के झूठी फसाने हैं,
लोग भी झूठे और झूठे जमाने हैं,
धोखे मिलते हैं हर कदम पर यहाँ,
हर तड़फ भीड़ हैं लेकिन अफसोस सब बेगाने हैं.,

 

इंसान कि अच्छाई पर सब खामोश रहते हैं,
चर्चा अगर उसकी बुराई पर हो तो गुगे भी बोल पड़ते हैं.,

 

काश उससे चाहने का अरमान ना होता,
मै होश में रहते हुए अनजान ना होता,
ना प्यार होता किसी पत्थर दिल से हमको,
या फिर कोई पत्थर दिल कोई इंसान ना होता.,

 

बेवफ़ा से दिल लगा लिया नादान थे हम,
गलती हमसे हुई कयोंकि इंसान थे हम,
आज जिनके नजरें मिलाने में तकलीफ होती हैं,
कुछ समय पहले उनकी जान थे हम.,

 

वक़्त की आग में पत्थर भी पिघल जाते हैं,
हसी लम्हे टूटकर अशकों में बह जाते हैं,
कोई साथ नहीं देगा इस जि़दगी में हमारा,
क्योंकि वक़्त के साथ इंसान बदल जाता हैं.,

 

कोन किसको दिल में जगह देता हैं,
सूखे पत्तो तो पेड़ भी गिरा देता हैं,
वाकिफ है हम दुनिया के रिवाजो से,
मतलब निकल जाए तो हर कोई भूल जाता हैं.,

 

मतलब से कितने ही रिश्ते बनाने की कोशिश करो,
वो रिश्ता कभी नहीं बनता ,
और प्यार से बने रिश्ते को तोड़ने की कितनी भी,
कोशिश करो वो रिश्ता कभी नहीं टुटता.,

 

दुश्मनों को सजा देने की एक तेहजीब हैं मेरी,
मैं हाथ नहीं उठाता बस नजरों से गिरा देते हैं.,

 

आज उसने मुझे ये कह कर छोर दिया,
कि तुम मेरी ज़िन्दगी कि सबसे बरी भूल हो.,

 

कितनी दुर निकल आये हम इश्क़ निभाते निभाते,
खुद को खो दिया हमने उनको पाते पाते,
लोग कहते हैं दर्द बहुत हैं तेरे आँखो में,
और हम दर्द छुपाते रहे मुस्कराते मुस्कराते.,

 

Conclusion

यही सभी Matlabi Shayari आप सभी को काफी पसंद आई होंगी अगर नहीं तो आप हमे कमेन्ट मे बताए हम अपने अगले पोस्ट व  Hindi Shayari मे कुछ अच्छा सुधार करेंगे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.