दोस्तों आज हम आपको कुछ स्पेशल Tareef Shayari पढ़ाने जा रहे जिसे आप किसी की तारीफ करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हो क्योंकि आज के समय मे जब कोई किसी पसंद करता तो वह उसकी हर चीज की तारीफ के लिए बहुत उकसुक होता है। तो उन सभी के लिए आज हम यह Tareef Shayari लेकर आये है जिसे आप जब चाहे तब अपने किसी भी दोस्त व् चाहने वालो के किसी भी सामान की तारीफ के लिए इस्तेमाल कर सकते है.

यह Tareef Shayari उन लोगो को भी बहुत ज्यादा पसंद आयेगी जोकि अपने दिल की बात किसी को बताने के लिए घबरा जाते है. क्योकि उनके मैन में रहता की कही अगर हम किसी की तारीफ करते है तो हो सकता की अगला हमको कही कुछ बुरा भला न कह दे क्योकि हो सकता की उससे मेरी यह बात बुरी लगी हो.

इस लिए आइये आप हमारी इन सभी Tareef Shayari को जरुर पढ़िए ताकि अगली बार जब आप किसी की तारीफ करने के लिए सोचे तो उसे केवल अपने दिमाग की सोच म ही न रखे बल्कि उसे सामने वाले को भी बताये. अगर हो सके तो आप उनको डायरेक्ट की जगह मेसेज करके अपने दिल की बात बताये लेकिन बताये जरुर बस आप इन सभी Good Tareef Shayari को शेअर करे दिल की बात कहे.

 

Tareef Shayari in Hindi

 

अब आपको हम यह Tareef Shayari in Hindi पढने जा रहे जिसे आप किसी की तारीफ के लिए इस्तेमाल कर सकते है बस आपको इन सभी Tareef Shayari को अपने दोस्तों को चाहने वालो को शियर करके अपने दिल की बात बोलनी है. तो आइये सुरु करिए पढ़ना इन सभी तारीफ shayari को बिना किसी परेशानी.

 

हुस्न का क्या काम सच्ची मोहब्बत में,

रंग सांवला भी हो तो यार क़ातिल लगता है.,

 

तेरे हुस्न पर लिखूं में क्या तारीफ मेरी जान,

वो लफ्ज़ ही नहीं, जो तेरा हुस्न को बयां कर सकें.,

 

इन आँखो को जब-जब उनका दीदार हो जाता है,

दिन कोई भी हो, लेकिन मेरे लिए त्यौहार हो जाता है.,

 

उनके हुस्न का आलम न पूछिये,

बस तस्वीर हो गया हूँ, उनकी तस्वीर देखकर.,

 

देख कर तेरी आँखों को मदहोश मै हो जाता हूँ.

तेरी तारीफ किये बिना मै रह नहीं पता हूँ.,

 

tareef shayari

 

तुझको देखा तो फिर उसको ना देखा,

चाँद कहता रह गया, मैं चाँद हूँ मैं चाँद हूँ.,

 

प्यारी सी तेरी स्माइल मीठी सी तेरी वॉइस,

जल जाते है लोग देख कर मेरी चॉइस.,

 

आज उसकी मासूमियत के कायल हो गए,

सिर्फ उसकी एक नजर से ही घायल हो गए.,

 

उनके हुस्न का आलम न पूछिये,

बस तस्वीर हो गया हूँ, तस्वीर देखकर.,

 

एक लाइन में क्या तेरी तारीफ लिखू,

पानी भी जो देखे तुझे तो, प्यासा हो जाये.,

 

Intezaar Shayari

 

मुझको मालूम नहीं हुस्न की तारीफ़,

मेरी नजरों में हसीन वो है जो तुम-सा है.,

 

लङने दो ज़ुल्फों और हवाये  को आपस में,

तुम क्यों हाथ से उनमें सुलह कराने लगती हो.,

 

तुम्हारी क्या तारीफ करू सुनो तुम मुझे,

बिना रीजन और हर रीजन अच्छी लगती हो.,

 

बड़ी फुर्सत से बनाया है तेरे खुदा ने तुझे,

वरना सूरत तेरी इस कदर ना चाँद से मिलती.,

 

बहुत शौक है न तुम्हे मुझे मार डालने का,

लगा कर ज़हर होठो पे मेरी बाँहों में आ जाओ.,

 

tareef shayari

 

अजी उसने तो कायनात में बबाल मचा रखा है,

अब मैं समझा उसके रुखसार पे तिल का मतलब,

दौलत-इ-हुसैन पर दरबान बिठा रखा है.,

 

फिर किसी शख्स के चेहरे की तमन्ना न रही,

एक नज़र देखलिया जिसने तुम्हारा चेहरा.,

 

तेरी तारीफ में लिख पाना आसन नहीं है.
तेरी सुन्दरता के लिए और अल्फाज नहीं है.,

 

तारीफ करने का तो सिर्फ एक बहाना है.
असल में हमे तुम्हारे घर में आना है.,

 

अपनी तारीफ सुन कर तुम यूँ घमंड ना करो.
चेहरे की खूबसूरती पर इतना घमंड ना करो.,

 

Alone Shayari

 

तुम्हारी तारीफ किये बिना मै रुक नहीं पता.
तुम्हारे हुस्न के चर्चे महफ़िल में करता जाता.,

 

तेरी आँखों के खूबसूरती में डूब जाऊ मै.
धीरे धीरे तेरी तारीफ करता चला जाऊ मै.,

 

झूटी तारीफ तो हर कोई करता है.
पर सच्ची तारीफ से हर कोई डरता है.,

 

तेरे हुस्न के चर्चे करके मै थकता नहीं.
ये वो नशा है जो अब रोज करता हूँ.,

 

 किसी की तारीफ मै यूं नहीं करता.
उसकी काबिलियत देख कर ही मै कुछ कहता हूँ.,

 

tareef shayari

 

मेरी महबूबा ने आज मुझे घायल कर दिया.
उसकी खूबसूरती देख कर मै पागल हो गया.,

 

ज़माने भर की बुराईयाँ ज़माने भर के डर एक तरफ़,

तेरे हाथ में मेरा हाथ।और फिर ये कायनात एक तरफ़.,

 

दिल करता है पलट जाऊँ आसमान की तरफ,

ज़मीन वालों का मिज़ाज नहीं मिलता मुझसे.,

 

जरा सा शुक्रिया तो करने दो इन नाजुक होंठों का,

सुना हैं बहुत तारीफ करते हैं हमेशा मेरे बारे में.,

 

तारीफ अपने आप की करना फिजूल है,

खुशबू खुद बता देती है कौन सा फूल है.,

 

Tareef Shayari for Beautiful Girl

दोस्तों अब आइए आपको हम यह Tareef Shayari for Beautiful Girl पढ़ाने जा रहे अब अगर आपको किसी सुन्दर लड़की की तारीफ करनी हो तो आप इन सभी Tareef Shayari for Girl की इस्तेमाल कर सकते है।

 

ख्वाहिश ये ना रखें कि तारीफ हर कोई करे,

कोशिश यही करे कि बस कोई बुरा ना कहे.,

 

रात भर करता रहा तेरी तारीफ चाँद से,

चाँद इतना जला कि सुबह तक सूरज हो गया.,

 

तारीफ अपने आप की करना फिजूल है,

खुशबू खुद बता देती है कौन सा फूल है.,

 

जिसे लिखते हुए मुझे तकलीफ़ बहुत होती है,

मेरे उस शेर की, तारीफ़ बहुत होती है.,

 

तुझको चाहा तो मोहब्बत की समझ आयी मुझे,

वरना इस लफ्ज़ की तारीफ सुना करते थे.,

 

tareef shayari

 

शिकायत क्या करूँ दोनों तरफ ग़म का फसाना है,

मेरे आगे मोहब्बत है तेरे आगे ज़माना.,

 

उसने कहा चार लफ़्ज़ों में मेरी तारीफ़ करो,

मेने लिखा फेशियल फाउंडेशन क्रीम और मस्कारा.,

 

तुमने तारीफ़ ही इस अंदाज से की मेरी,

की अपनी ही तस्वीर को हम सौ बार देख चुके है.,

 

काबिल ए तारीफ है आपका हर अल्फ़ाज़,

इन अल्फाजों से आपकी मोहब्बत जो झलकती है.,

 

हम दोनो की मोहब्बत में महज़ इतना ही फ़र्क है,

एक तरफ़ था और दूसरी तरफ़ आज भी है.,

 

मेरी तारीफ़ करे या मुझे बदनाम करे,

जिसने जो बात करनी है सर ए आम करे.,

 

अरसे बीत गए तुम्हारी तारीफ लिखते लिखते,

दो लफ्ज़ तुम भी कभी मेरे सब्र पर ही लिख दीजिए.,

 

मेरी चाहतों की शाम उस दिन हसीन हो जाये,

मैं उन्हे मांगूं और हर तरफ अमीन-अमीन हो जाये.,

 

तिशनगी में भी पलट आया हूँ सहरा की तरफ

मुझसे इस प्यास में दरिया नहीं देखा जाता.,

 

मे अपनी तारीफ खुद किया करता हुं,

क्योंकि मेरी बुराई करने के लिए तो पूरा जमाना.,

 

tareef shayari

 

क्या लिखूँ तेरी सूरत-ए -तारीफ मे, मेरे हमदम,

अल्फाज खत्म हो गये है, तेरी अदाएँ देख-देख के.,

 

तू जरा सी कम खूबसूरत होती,

तो भी बहुत खूबसूरत होती.,

 

वो तारीफें करते रहते है ,हम शायरी करते रहते है,
वो कुछ कहते नही ओर हम इंतज़ार करते रहते है.,

 

तुमसे प्यार करना, मेरी मज़बूरी बन गई,
तेरी तिरछी नजरिया, मेरे दिल को घायल कर गई.,

 

रात बड़ी मुश्किल से सुलाया है मैंने खुद को,
अपनी आंखों को तेरे ख्वाब का लालच देकर.,

 

उनकी एक मुस्कराहट ने हमारे होश उड़ा दिए,
हम होश में आ ही रहे थे की वो फिर मुस्कुरा दिए.,

 

तुम्हारी खूबसूरती की दिन रात मैं तारीफ करता हूं,
तुम्हारी तस्वीर लेकर यूं ही दिन रात देखा करता हूं.,

 

जंगली जड़ी बूटी सी मैं दोस्तों,
किसी को जहर, किसी को दवा सी लगती हूं.,

 

वो मुझसे रोज़ कहती थी मुझे तुम चाँद ला कर दो,
आज उसे एक आयना दे कर अकेला छोड़ आया हूँ.,

 

ऐसा ना हो तुझको भी दीवाना बना डाले
तन्हाई में खुद अपनी तस्वीर न देखा कर.,

 

 

तारीफ़ अपने आप की करना फ़िज़ूल है
ख़ुशबू खुद बता देती है कौन सा फ़ूल है.,

 

उसने तारीफ़ ही कुछ इस अंदाज से की मेरी,
अपनी ही तस्वीर को सौ दफ़े देखा मैंने.,

 

हुस्न दिखा कर भला कब हुई है मोहब्बत,
वो तो काजल लगा कर हमारी जान ले गयी.,

 

तुम हक़ीकत नहीं हो हसरत हो,

जो मिले ख़्वाब में वही दौलत हो,

किस लिए देखती हो आईना,

तुम तो खुदा से भी ज्यादा खूबसूरत हो.,

 

ऐसा ना हो तुझको भी दीवाना बना डाले,

तन्हाई में खुद अपनी तस्वीर न देखा कर.,

 

Beautiful Tareef Shayari

अब आइए आपको हम यह Beautiful Tareef Shayari पढ़ाने जा रहे जोकि आपको और भी अधिक पसंद आएगी आप बस इन सभी Tarif ki Shayari को किसी की सुंदर्ता की तारीफ के लिए इस्तेमाल कर सकते है।

 

उसके चेहरे की चमक के सामने सब सादा लगा,

आसमान पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा.,

 

इस डर से कभी गौर से देखा नहीं तुझको​,​ ​​

कहते हैं कि लग जाती है अपनों की नज़र भी​.,

 

कुछ फिजायें रंगीन हैं, कुछ आप हसीन हैं,
तारीफ करूँ या चुप रहूँ जुर्म दोनो संगीन हैं.,

 

और भी इस जहां में आएंगे आशिक कितने,
उनकी आंखों को तुमको देखने की हसरत रहे.,

 

इस जहां में तेरा हुस्न मेरी जां सलामत रहे,
सदियों तक इस जमीं पे तेरी कयामत रहे.,

 

 

कुछ इस तरह से वो मुस्कुराते हैं,
कि परेशान लोग उन्हें देख कर खुश हो जाते हैं,
उनकी बातों का अजी क्या कहिये,
अल्फ़ाज़ फूल बनकर होंठों से निकल आते हैं.,

 

कहाँ तक लिखूं एक ताज़ा शायरी आपके लिए,
आपके हुस्न में तो रोज एक नयी बात हुआ करती है.,

 

यूँ न निकला करों आज कल रात को,
चाँद छुप जाएगा देख कर आप को.,

 

दुनिया में तेरा हुस्न मेरी जां सलामत रहे,
सदियों तलक जमीं पे तेरी कयामत रहे.,

 

उसने महबूब की तारीफ कुछ इस कदर की,
रात भर आसमान में चाँद भी दिखाई न दी.,

 

मेरे दिल के धड़कनों की वो जरूरत सी है,
तितलियों सी नाजुक, परियों जैसी खूबसूरत सी है.,

 

ख्वाहिश नहीं तारीफ़ की किसी यार से,
मुझे तो इश्क़ हो गया, आज अपने श्रृंगार से.,

 

उस के चेहरे की चमक के सामने सादा लगा,
आसमाँ पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा.,

 

अजब तेरी है ऐ महबूब सूरत,
नज़र से गिर गए सब ख़ूबसूरत.,

 

क्या हुस्न था कि आँखों से देखा हजार बार,
फिर भी नजर को हसरत-ए-दीदार रह गयी.,

 

 

हसीं तो और हैं लेकिन कोई कहाँ तुझ सा,
जो दिल जलाए बहुत फिर भी दिलरुबा ही लगे.,

 

हुस्न वालो को क्या जरूरत है संवरने की,
वो तो सादगी में भी कयामत से अदा रखते है.,

 

ये जो निगाहों से हमारे दिल को हलाल करते हो,
करते तो वैसे जुर्म हो लेकिन कमाल करते हो.,

 

वो घर से बन संवर कर, जब कभी निकलते है
उनसे रौशनी लेकर सौ चिराग जलते है.,

 

चाँद की चमक भी फीकी लगती हैं,
तू परियों से ज्यादा खूबसूरत दिखती है.,

 

सुना है लोग उसे आँख भर कर देखते है,
तो उसके शहर में कुछ दिन ठहर कर देखते है.,

 

Conclusion

यही सभी Tareef Shayari आप सभी को काफी पसंद आई होंगी अगर नहीं तो आप हमे कमेन्ट मे बताए हम अपने अगले पोस्ट व  Hindi Shayari मे कुछ अच्छा सुधार करेंगे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.