Umeed Shayari – दोस्तों आज हम आपको यह Umeed Shayari पढ़ाने जा रहे क्योंकि आपको तो पता होगा की आज के समय मे आप किसी पर उम्मीद नहीं रख सकते क्योंकि सब न कभी न कभी आपको किसी न किसी रूप मे नाराज किया ही होता है।

लेकिन इन सभी लोगों के बीच कुछ ऐसे लोग भी होते जिन पर हम आँख बंद करके उम्मीद कर सकते और वो लोग हमारे दिल के बहुत ही करीब होते क्योंकि वह हमारी किसी भी मुसीबत मे हमारे साथ खड़े रहते है।

इस लिए आज हम आपको यह कुछ स्पेशल Umeed Shayari पढ़ाने जा रहे जो आपको बहुत ही ज्यादा पसंद आएगा और आप इन सभी Umeed Shayari Hindi को अपने उन सभी खास दोस्तों को भेज सकते हो जिन पर आप आँख बंद करके उम्मीद कर सकते है।

 

Umeed Shayari in Hindi

अब आइए साथ मे पढे इन सभी Umeed Shayari in Hindi को और साथ मे इन सभी Umeed Shayari को हम अपने दोस्तों मे भी शेयर करेंगे और उनको यह अहसास दिलाएंगे की वह हमारे लिए कितने खास है।

 

प्यार कर के कोई जताये ये जरुरी तो नहीं,
याद कर के कोई बताये ये जरुरी तो नहीं,
रोने वाले तो दिल में ही रो लेते हैं,
कभी आँख में आँसू आये जरुरी तो नहीं.,

 

गुजरे दिनों की भूली हुई बात की तरह,
आँखों में जगता है कोई रात की तरह,
उससे से उम्मीद थी कि निभाएगा साथ वो,
वो भी बदल गया मेरे हालत की तरह.,

 

बैठ के किसी का इंतजार करके देखना,
कभी तुम भी किसी से प्यार करके देखना,
कैसे टूट जाते हैं मोहब्बत के रिस्ते,
गलतियाँ कभी दो चार करके देखना.,

 

वो मेरे हाथो की लकीरे देखकर,

अक्सर मायूस हो जाती है,शायद,

उसे भी एहसास हो गया है की,

वो मेरी क़िस्मत मे नही है.,

 

मउसेबात में तुम हमें चोर चले,

जो थी तुम पर उमीद वो टोर चले,

कैसे करें अब तुम पर यकीन,

यकीन करना अब हम चोर चले.,

 

Umeed Shayari

 

जहाँ हिम्मत समाप्त होती है,

वहीँ हार की शुरुआत होती है,

आप धीरज मत खोइए,

अपना कदम फिर से उठाइए.,

 

जीत की खातिर बस जुनून चाहिए,

जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिए,

यह आसमान भी आएगा ज़मीन पर,

बस इरादों मे जीत की गूँज चाहिए.,

 

अंधेरे मे भी चिराग उलफत जलाए रखना,

तुफानो मे भी ये शमा ना भूज़ने देना,

खुदा ज़रूर मेहरबान होगा एक दिन देखना,

उमीद के दामन मे खुद को जगाए रखना.,

 

एक उमीद के सहारे जीआई जा रहै हैं,

एक घूम-ए-जुदाई के रास्ते पे चले जा रहाहं,

यह ज़िंदगी ही या शबाब का पेयमना,

क़िस्मत मैं है पीना आए अहील पेआ जा रहै हैं.,

 

दिल ना-उमीद तो नहीं नाकाम ही तो है,

लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है,

 

Rajputana Shayari

 

प्यार तो जी भर कर करो बस उम्मीद मत रखना,
क्योंकि तकलीफ मोहब्बत नहीं उम्मीदें देती है.,

 

यकीन था कि तुम भूल जाओगे मुझे,
खुशी है कि तुम उम्मीद पर खरे उतरे.,

 

हम किसी शख्स से तब तक लड़ते हैं,
जब तक उससे प्यार की उम्मीद होती है.,
जिस दिन वो उम्मीद ख़तम हो जाती है,
उस दिन लड़ना भी खत्म हो जाता है.,

 

काश तुम भी कभी जोर से गले लगा कर कहो,
डरते क्यों हो पागल तुम्हारी ही तो हूं.,

 

कटी हुई टहनियां भी कहा छाव देती है,
हद से ज्यादा उम्मीदें भी हमेशा घाव देती है.,

 

Umeed Shayari

 

उम्मीद से बढ़कर निकली तू पगली सोचा था,
दिल तोड़ेगी पर तूने तो मुझे ही तोड़ कर रख दिया.,

 

आधे दुखः गलत लोगों से उम्मीद रखने से होते है,
और बाकी आधे सच्चे लोगों पर शक करने से होते है.,

 

करीब इतना रहो कि रिश्तो में प्यार रहे,
दूर भी इतना ही रहो कि आने का इंतज़ार रहे,
रखो उम्मीद रिश्तो के दरमियान इतनी कि,
टूट जाए उम्मीद मगर रिश्ते बरकरार रहें.,

 

चिरागों से कह दो न बुझे एक आस बाकी है,
धड़कनें भी हैं चल रही, अभी साँस बाकी है.,

 

अब वफा की उम्मीद भी किस से करे भला,
मिटटी के बने लोग कागजो मे बिक जाते है.,

 

 

Raat Shayari

 

मुद्दतें बीत गयी आज पर यार-ए-ज़िद्द ना गयी,
बंद कर दिए गए दरवाजे मगर उम्मीद ना गयी.,

 

सूनी राहों के तकाज़ों पे जिंदगी अब भी,
तेरी उम्मीद मे खुशियों की तलबगार रहे.,

 

दिल ने एक उम्मीद बरकरार रखी है ऐ दोस्तों,
कही पढ़ लिया था कि सच्ची मोहब्बत लौटकर आती है.,

 

यूँ तो हर शाम उम्मीदों में गुज़र जाती थी,
आज कुछ बात है जो शाम पे रोना आया,
ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया,
जाने क्यों आज तेरे नाम पे रोना आया.,

 

बैठें तो किस उम्मीद पर बैठे रहें यहाँ,
उठें तो उठ के जायें कहाँ तेरे दर से हम.,

 

Umeed Shayari

 

उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती हैं,
उसकी आँखें हमें दुनिया भुला देती हैं,
आएगी आज भी वो सपने मैं यारो,
बस यही उम्मीद हमें रोज़ सुला देती हैं.,

 

हम कई रिशतों को टूटने से बचा सकते हैं,
केवल अपनी सोच में यह छोटा सा बदलाव करके,
कि सामने वाला गलत नहीं है,
सिर्फ हमारी उम्मीद से थोङा अलग है.,

 

करीब रहो इतना कि रिश्तों में प्यार रहे,
दूर भी रहो इतना कि आने का इतज़ार रहे,
रखो उम्मीद रिश्तों के दरमिया इतनी,
कि टूट जाये उम्मीद मगर रिश्ते बरकरार रहें.,

 

उम्मीदों की कश्ती को ङुबोया नहीं करते,
मंज़िल दूर हो तो थक कर रोया नहीं करते,
रखते हैं जो दिल में उम्मीद कुछ पाने की,
वो लोग ज़िंदगी में कुछ खोया नहीं करते.,

 

अपने सीने से लगाए हुए उम्मीद की लाश,
मुद्दतों जीस्त को नाशाद किया है मैंने,
तूने तो एक ही सदमे से किया था दो-चार,
दिल को हर तरह से बर्बाद किया है मैंने.,

 

आज तक है उसके लौट आने की उम्मीद,
आज तक ठहरी है ज़िंदगी अपनी जगह,
लाख ये चाहा कि उसे भूल जाये पर,
हौंसले अपनी जगह बेबसी अपनी जगह.,

 

एक अजीब दास्तान है मेरे अफसाने की,
मैने पल पल कोशिश उसके की पास जाने की,
किस्मत थी मेरी या साजिश थी ज़माने की,
दूर हुई मुझसे इतना जितनी उमीद थी करीब आने की.,

 

कहने को लफ्ज दो हैं उम्मीद और हसरत,

लेकिन निहाँ इसी में दुनिया की दास्ताँ है,

मुतमइन हैं वो मुझे दे के उम्मीदों के चिराग़,

तिफ़्ल-ए-मक़तब हूँ, खिलौनों से बहल जाउँगा.,

 

उनकी आँखों से रखे क्या कोई उम्मीद-ए-करम,

प्यास मिट जाये तो गर्दिश में वो जाम आते हैं.,

 

अब के उम्मीद के शोले से भी आँखें न जलीं,

जाने किस मोड़ पे ले आई मोहब्बत हमको.,

 

 

उठता हूँ उसकी बज़्म से जब होके ना उम्मीद,

फिर फिर के देखता हूँ कोई अब पुकार ले.,

 

कभी बादल,कभी बारिश,कभी उम्मीद के झरने,

तेरे अहसास ने छू कर मुझे क्या-क्या बना डाला.,

 

दिल गवारा नहीं करता शिकस्ते-उम्मीद,

हर तगाफुल पै नवाजिश का गुमाँ होता है.,

 

अबके गुज़रो उस गली से तो जरा ठहर जाना,

उस पीपल के साये में मेरी उम्मीद अब भी बैठी है.,

 

उम्मीद में बैठे हैं मंज़िल की राह में,

तू पुकारे तो हौंसलों को इलहाम मिले.,

 

अब वफा की उम्मीद भी किस से करे भला
मिटटी के बने लोग कागजो मे बिक जाते है.,

 

मुद्दतें बीत गयी आज पर यार-ए-ज़िद्द ना गयी,
बंद कर दिए गए दरवाजे मगर उम्मीद ना गयी.,

 

सूनी राहों के तकाज़ों पे जिंदगी अब भी,
तेरी उम्मीद मे खुशियों की तलबगार रहे.,

 

बहुत चमक है उन आँखों में अब भी,
इंतज़ार नहीं बुझा पाया है उम्मीद की लौ.,

 

दिल ने एक उम्मीद बरकरार रखी है ऐ दोस्तों,
कही पढ़ लिया था कि सच्ची मोहब्बत लौटकर आती है.,

 

 

उम्मीद ऐसी हो जो मंजिल तक ले जाये,
मंजिल ऐसी हो जो जीना सिखलाये,
जीना ऐसा हो जो रिश्तों की कदर करे,
रिश्ते ऐसे हों जो याद करने को मजबूर करें.,

 

उम्मीद की कश्ती को डुबाया नहीं करते,
साहिल अगर दूर हो तो रोया नहीं करते,
जो रखते हैं दिल में हौसला,
वो जिन्दगी में कुछ खोया नहीं करते.,

 

नज़र में शोखि़याँ लब पर मुहब्बत का तराना है,
मेरी उम्मीद की जद में अभी सारा जमाना है.,

 

उम्मीद का लिबास तार-तार ही सही पर सी लेना चाहिए,
कौन जाने कब किस्मत माँग ले इसको सर छुपाने के लिए.,

 

Conclusion

यही सभी Umeed Shayari आप सभी को काफी पसंद आई होंगी अगर नहीं तो आप हमे कमेन्ट मे बताए हम अपने अगले पोस्ट व  Hindi Shayari मे कुछ अच्छा सुधार करेंगे।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.